Jyoti Murder Case Kanpur: हत्यारें पीयूष को न्यायालय से राहत नहीं…

अपर जिला जज कोर्ट ने 2022 में सुनाई थी छह को उम्र कैद की सजा.. उच्च न्यायालय से नहीं मिली राहत तो...

Kanpur लायर्स चुनाव का परिणाम घोषित,अध्यक्ष श्याम नारायण सिंह और अभिषेक तिवारी बने महामंत्री।

कानपुर : लायर्स एसोसिएशन के नये अध्यक्ष और महामंत्री चुन लिये गये हैं। .बुधवार देर शाम अध्यक्ष पद...

कानपुर के पोस्टर पर मचा बवाल राहुल गांधी ‘कृष्ण’ और अजय राय बने अर्जुन….

राहुल गांधी की भारत जोड़ा न्याय यात्रा कानपुर पहुंची है. कानपुर के एक कांग्रेस नेता द्वारा लगवाया...

पश्चिम बंगाल में रिपब्लिक बांग्ला के रिपोर्टर को किया गिरफ्तार,जर्नलिस्ट क्लब ने की कड़ी निन्दा।

पश्चिम बंगाल में ‘रिपब्लिक बांग्ला’ टीवी न्यूज़ चैनल के पत्रकार सन्तु पान को गिरफ्तार कर लिया गया...

रेड टेप कल्चर’ को ‘रेड कार्पेट कल्चर’ में बदला, UP ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में बोले PM मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं जब भी विकसित भारत की बात करता हूं तो इसके लिए नई सोच की बात करता...

IPS Amitabh Yash: एनकाउंटर स्पेशलिस्ट अमिताभ यश बने यूपी के नए ADG ला एंड ऑर्डर, जाने इनके बारे में।

IPS Amitabh Yash: यूपी पुलिस के सबसे चर्चित अधिकारियों में शामिल आईपीएस अमिताभ यश एडीजी ला एंड...

Kanpur News : पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक का निधन

पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक (71) का निधन हो गया है। बताया जा रहा है कि ठंड लगने से...

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी।

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी। कमलेश दीक्षित डीसीपी...

#Kanpur News : जेके कैंसर बने रीजनल सेंटर, बढ़ेंगी सुविधाएं…

➡️चौथी बार उठी मांग, विधानसभा की याचिका कमेटी को दिया गया पत्र। कानपुर। जेके कैंसर को रीजनल सेंटर...
Information is Life

कानपुर देहात के मड़ौली में मां-बेटी की जिंदा जलकर मौत की घटना के बाद पोस्ट मार्टम हाउस सहानुभूति जताने पहुंचे ‘मैं ब्राह्मण हूं’ महासभा के अध्यक्ष दुर्गेश मणि त्रिपाठी को राज्यमंत्री प्रतिभा शुक्ला और पूर्व सांसद अनिल शुक्ला वारसी के कथित समर्थकों द्वारा गाली-गलौज और ने चप्पलों से पिटाई करवाने का आरोपो का मामला अभी ठण्डा भी नही हुआ था। कि राज्यमंत्री के पति अनिल शुक्ला का वारसी का एक और वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है जिसमे वो कानपुर देहात केस में विवादित बयान के जरिये प्रदेश सरकार को कठघरे में खड़ा करते नज़र आ रहे है पूर्व सांसद और बीजेपी नेता कानपुर देहात केस पर बोले वोट बैंक साधने के लिए गलत कार्रवाई की गई है। वारसी ने कहा मामले में की गई कार्रवाई पूरी तरह गलत आरोपियों और सरकारी कर्मचारियों पर दबाव में दर्ज किया गया है मुकदमा मंडलायुक्त और एडीजी ज़ोन कानपुर ने तथ्यों को जानने के बाद भी कानून के मुताबिक काम नहीं किया, गलत कार्रवाई गैर कानूनी काम करने वालों को दिलाया जा रहा है मुआवजा…

महिलाओं के अंदर तो टेंडेंसी होती है आग लगाने कीउनका भी कोई मरने का इरादा नहीं था। वो चाहती थी कि हम ये करेंगे तो ये लोग भाग जाएंगे। लेकिन बड़ा हादसा हो गया।”

उन्होंने आगे कहा, “बात आज की नहीं है, आगे भी इस तरह की घटनाएं होंगी। कोई गैर-कानूनी काम होता है और उस पर कोई मर जाता है तो क्या प्रशासन और कानून को इतना ज्यादा खत्म कर देना चाहिए कि वह सही डिसीजन नहीं ले पाए?”

अनिल शुक्ल वारसी ने कहा, “​​​​​​भोले-भाले लोग जो अतिक्रमण हटाने के दौरान अपनी ड्यूटी का पालन कर रहे थे, उनको जेल भेजा जा रहा है। आरोपियों को मुआवजा मिल रहा। सच किसी को नहीं दिख रहा है। कानून चूल्हे भाड़ में गया जो गलत काम करने वाला है। उसको आप तेल पानी करने लगो। उसको मनाने में लग जाओ। उसको पैसे दो फिर एफआईआर करके भोले-भाले लोग हैं, जिनकी कोई गलती नहीं है, जो अपनी ड्यूटी का पालन कर रहे हैं उनको आप जेल भेज दो। और इसके बाद पैसे भी दो फिर पार्टी को वो लोग गाली भी दें। पार्टी 100 प्रतिशत गलत है, वही वीडियो वायरल होने के बाद लोगो शोशल मीडिया के माध्यम से आक्रोश जता रहे है।

क्या है पूरा मामला

दरअसल मैथा तहसील के मड़ौली गांव में कृष्णगोपाल दीक्षित परिवार में पत्नी प्रमिला 50, बेटी नेहा 20, बेटे शिवम, अंश व बहू शालिनी के साथ रहते हैं. गांव के बाहर उन्होंने खाली भूमि पर पशुबाड़ा और झोपड़ी बना रखी थी, वहीं पास में एक चबूतरे पर शिवलिंग भी स्थापित किया था. इस भूमि को सरकारी बताते हुए गांव के एक व्यक्ति ने शिकायत दर्ज कराई थी. इसके बाद बीती 13 जनवरी को प्रशासन ने भूमि को ग्राम समाज का बताते हुए कब्जा हटाने का प्रयास किया था. प्रशासन ने उनको कब्जा हटाने के लिए कुछ दिन की मोहलत दी थी. जिसके बाद उसी दिन शाम को पीड़ित कृष्णगोपाल अपने परिवार के साथ माती मुख्यालय पहुंच गए और धरने पर बैठे गए. जिस पर एसडीएम और एडीएम ने उनको धमकाकर भगा दिया. अगले दिन 14 जनवरी को बलवा और धारा 144 के उल्लंघन का मुकदमा दर्ज कराया था. साथ ही 16 जनवरी को राजस्व विभाग की ओर से सरकारी जमीन कब्जे का भी केस दर्ज किया गया था. मुकदमा दर्ज होने के बाद सोमवार को कब्जा हटाने के लिए राजस्व विभाग की टीम गई हुई थी. इस दौरान पीड़ित के घर में आग लग गई. जिसमें मां और बेटी की जलकर मौत हो गई.


Information is Life