वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का बजट भाषण।

🛑वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण में कहा कि ‘सरकार एक करोड़ युवाओं को अगले...

दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में पेश किया आम बजट 2024-25

➡भारत में महंगाई दर करीब 4 फीसदी ➡भारतीय अर्थव्यवस्था चमक रही है ➡ग्लोबल इकॉनमी मुश्किल दौर में है...

Kanpur : रेलबाजार पुलिस की वाहन चोर से मुठभेड़…

कानपुर की रेलबाजार पुलिस और शातिर बदमाश में रविवार देर रात रेलबाजार लोको कॉलोनी में मुठभेड़ हो गई।...

प्रयागराज में पहली बार एके-47 से हुई थी विधायक की हत्या, आरोपी उदयभान करवरिया को मिली रिहाई

बालू ठेकों के वर्चस्व में प्रयागराज में पहली बार 1996 में एके-47 से हत्या की गई थी। सरकार बदली, तो...

सुनियोजित विकास को आगे बढ़ाने में सहायक होगी फैमिली आईडी : सीएम

विज्ञापन योगी ने की जिला घरेलू उत्पाद अनुमान (डीडीपी) 2022-23 पुस्तिका के आंकड़ों की समीक्षा वर्ष...

Kanpur News: ‘मुकदमा लो वापस वरना छाती पर पड़ेगी गोली’, बाइक सवार बदमाशों ने अधिवक्ता के घर की फायरिंग..

विज्ञापन Kanpur News: अधिवक्ता अश्वेंद्र सोनकर ने कहा कि उनका अशोक और सजल के साथ विवाद चल है....

‘सौ लाओ, सरकार बनाओ’, अखिलेश यादव के मॉनसून ऑफर ने बढ़ाया यूपी का सियासी पारा।

समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव लगातार यूपी की योगी सरकार पर हमला कर रहे हैं। अब अखिलेश ने...

कानपुर में सैकड़ों की संख्या में चल रहे अवैध हुक्का बार, नशा परिवारों को झोंक रहा तबाही के द्वार-ज्योति बाबा…

विज्ञापन कानपुर : विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के अनुसार तंबाकू का दूसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता और...

कानपुर में जमीनों का नया सर्किल रेट जारी, जमीन खरीदने के लिए अब इतनी ढीली करनी होगी जेब, देख लीजिए लिस्ट

विज्ञापन Kanpur New Circle Rate of Land: कानपुर में जमीनों के दाम में वृद्धि हो गई है। नए सर्किल...
Information is Life

कानपुर देहात के मड़ौली में मां-बेटी की जिंदा जलकर मौत की घटना के बाद पोस्ट मार्टम हाउस सहानुभूति जताने पहुंचे ‘मैं ब्राह्मण हूं’ महासभा के अध्यक्ष दुर्गेश मणि त्रिपाठी को राज्यमंत्री प्रतिभा शुक्ला और पूर्व सांसद अनिल शुक्ला वारसी के कथित समर्थकों द्वारा गाली-गलौज और ने चप्पलों से पिटाई करवाने का आरोपो का मामला अभी ठण्डा भी नही हुआ था। कि राज्यमंत्री के पति अनिल शुक्ला का वारसी का एक और वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है जिसमे वो कानपुर देहात केस में विवादित बयान के जरिये प्रदेश सरकार को कठघरे में खड़ा करते नज़र आ रहे है पूर्व सांसद और बीजेपी नेता कानपुर देहात केस पर बोले वोट बैंक साधने के लिए गलत कार्रवाई की गई है। वारसी ने कहा मामले में की गई कार्रवाई पूरी तरह गलत आरोपियों और सरकारी कर्मचारियों पर दबाव में दर्ज किया गया है मुकदमा मंडलायुक्त और एडीजी ज़ोन कानपुर ने तथ्यों को जानने के बाद भी कानून के मुताबिक काम नहीं किया, गलत कार्रवाई गैर कानूनी काम करने वालों को दिलाया जा रहा है मुआवजा…

महिलाओं के अंदर तो टेंडेंसी होती है आग लगाने कीउनका भी कोई मरने का इरादा नहीं था। वो चाहती थी कि हम ये करेंगे तो ये लोग भाग जाएंगे। लेकिन बड़ा हादसा हो गया।”

उन्होंने आगे कहा, “बात आज की नहीं है, आगे भी इस तरह की घटनाएं होंगी। कोई गैर-कानूनी काम होता है और उस पर कोई मर जाता है तो क्या प्रशासन और कानून को इतना ज्यादा खत्म कर देना चाहिए कि वह सही डिसीजन नहीं ले पाए?”

अनिल शुक्ल वारसी ने कहा, “​​​​​​भोले-भाले लोग जो अतिक्रमण हटाने के दौरान अपनी ड्यूटी का पालन कर रहे थे, उनको जेल भेजा जा रहा है। आरोपियों को मुआवजा मिल रहा। सच किसी को नहीं दिख रहा है। कानून चूल्हे भाड़ में गया जो गलत काम करने वाला है। उसको आप तेल पानी करने लगो। उसको मनाने में लग जाओ। उसको पैसे दो फिर एफआईआर करके भोले-भाले लोग हैं, जिनकी कोई गलती नहीं है, जो अपनी ड्यूटी का पालन कर रहे हैं उनको आप जेल भेज दो। और इसके बाद पैसे भी दो फिर पार्टी को वो लोग गाली भी दें। पार्टी 100 प्रतिशत गलत है, वही वीडियो वायरल होने के बाद लोगो शोशल मीडिया के माध्यम से आक्रोश जता रहे है।

क्या है पूरा मामला

दरअसल मैथा तहसील के मड़ौली गांव में कृष्णगोपाल दीक्षित परिवार में पत्नी प्रमिला 50, बेटी नेहा 20, बेटे शिवम, अंश व बहू शालिनी के साथ रहते हैं. गांव के बाहर उन्होंने खाली भूमि पर पशुबाड़ा और झोपड़ी बना रखी थी, वहीं पास में एक चबूतरे पर शिवलिंग भी स्थापित किया था. इस भूमि को सरकारी बताते हुए गांव के एक व्यक्ति ने शिकायत दर्ज कराई थी. इसके बाद बीती 13 जनवरी को प्रशासन ने भूमि को ग्राम समाज का बताते हुए कब्जा हटाने का प्रयास किया था. प्रशासन ने उनको कब्जा हटाने के लिए कुछ दिन की मोहलत दी थी. जिसके बाद उसी दिन शाम को पीड़ित कृष्णगोपाल अपने परिवार के साथ माती मुख्यालय पहुंच गए और धरने पर बैठे गए. जिस पर एसडीएम और एडीएम ने उनको धमकाकर भगा दिया. अगले दिन 14 जनवरी को बलवा और धारा 144 के उल्लंघन का मुकदमा दर्ज कराया था. साथ ही 16 जनवरी को राजस्व विभाग की ओर से सरकारी जमीन कब्जे का भी केस दर्ज किया गया था. मुकदमा दर्ज होने के बाद सोमवार को कब्जा हटाने के लिए राजस्व विभाग की टीम गई हुई थी. इस दौरान पीड़ित के घर में आग लग गई. जिसमें मां और बेटी की जलकर मौत हो गई.


Information is Life