IIT से बीटेक, फिर IPS और अब IAS टॉपर काफी रोचक है आदित्य श्रीवास्तव की कहानी

आदित्य के पिता अजय श्रीवास्तव सेंट्रल ऑडिट डिपार्टमेंट में AAO के पद पर कार्यरत हैं। छोटी बहन...

कानपुर लोकसभा चुनाव 2024 : विकास के लिए समर्पित सांसद को चुनेंगे मतदाता।

(अभय त्रिपाठी) कानपुरः यूपी की कानपुर लोकसभा सीट को मैनचेस्टर ऑफ यूपी के नाम से जानी जाती है।...

Kanpur : भाजपा प्रत्याशी रमेश अवस्थी ने इंडी गठबंधन के प्रभाव वाले कैन्ट, आर्यनगर और सीसामऊ में तेज की कदमताल..

आर्यनगर की गलियों में जाकर जनता से मिले, मिला जनसमर्थन कानपुर। जैसे-जैसे मतदान की तारीख नजदीक आ...

Kanpur : भाजपा प्रत्याशी रमेश अवस्थी ने इंडी गठबंधन के प्रभाव वाले कैन्ट, आर्यनगर और सीसामऊ में तेज की कदमताल..

-आर्यनगर की गलियों में जाकर जनता से मिले, मिला जनसमर्थन कानपुर। जैसे-जैसे मतदान की तारीख नजदीक आ...

इतिहास के पन्नों में : कानपुर के इस इलाके को आखिर कैसे मिला तिलक नगर नाम??

(अभय त्रिपाठी) कानपुर : उत्तर प्रदेश की राजधानी तो नहीं है, पर इस सूबे का सबसे खास शहर तो है। एक...

#Kanpur : लोकसभा प्रत्याशी आलोक मिश्र और विधायक समेत 200 लोगों पर केस दर्ज, अमिताभ बोले लोकतंत्र नहीं लाठीतंत्र।

यूपी के कानपुर (Kanpur) में इंडिया गठबंधन (India Alliance) के लोकसभा प्रत्याशी और समाजवादी पार्टी...

Kanpur : चोरों के हौसले बुलंद,स्वरूप नगर में दिनदहाड़े चोर स्कूटी लेकर रफूचक्कर।

कानपुर : बेखौफ अपराधी पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था को धता बताते हुए शहर में ताबड़तोड़ चोरी की वारदातों...

Kanpur News : मरीजों की सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं हैः मुख्य सचिव

कानपुर। प्रदेश के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने कहा कि मरीजों की सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं है।...

#Kanpur : बुजुर्ग पिता की सेवा करना बैंक कर्मी के लिए बना काल, कलयुगी संतानें और पत्नी ने गला दबाकर हत्या का किया प्रयास।

कानपुर। बैंककर्मी ने अपनी पत्नी व बच्चों समेत उनके साथियों पर डंडे व रॉड से पीटने व गला दबाकर...

“बुजुर्ग लड़े गोरों से हम लडेंगे चोरो से” कानपुर में ऐसा क्या हुआ की थाने के बाहर ये लगने लगे नारे?

कानपुर : शहर में चारों ओर ईद मुबारकबाद के शोर के बीच अचानक पनकी थाने के बाहर हंगामा होने लगा,...
Information is Life

मुख्तार बाबा उर्फ बाबा बिरयानी

कानपुर :-नई सड़क पर हुए उपद्रव के मास्टर माइंड हयात जफर हाशमी से कस्टडी रिमांड के दौरान हुई पूछताछ में मुख्तार बाबा से कनेक्शन सामने आया है। जब पुलिस ने उसकी कुंडली खंगाली तो कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए पुख्ता जानकारी के बाद एसआईटी द्वारा मुख्तार बाबा को अरेस्ट कर लिया है। तीन जून को जुमा की नमाज के बाद दुकानें बंद कराने को लेकर विवाद के बाद पथराव, बमबाजी हुई थी। इस दौरान उपद्रवियों ने पुलिस पर भी ईंट-पत्थर चलाए थे। पुलिस ने तीन मुकदमे दर्ज करने के साथ 57 लोगों की गिरफ्तारी की है। पुलिस ने उपद्रव के मास्टरमाइंड हयात जफर हाशमी के साथ जावेद मोहम्मद खान, मोहम्मद राहिल, मोहम्मद सूफियान को 52 घंटे की कस्टडी रिमांड पर लेकर पूछताछ की, जिसमें हयात के संबंध मुख्तार बाबा से होने की जानकारी मिली थी जिसकी बिरयानी की दुकान है, लेकिन जांच में सामने आया है कि वह विवादित और शत्रु संपत्तियां खरीदता था। उन्हें खाली कराने में वह डी-टू गिरोह के गुर्गों की मदद लेता था।


पिछले दिनों यह बात सामने आई थी कि कानपुर के बेकनगंज में जो जगह सरकारी रिकॉर्ड में राम-जानकी मंदिर के तौर पर दर्ज है, वहाँ आज बाबा बिरयानी नाम से रेस्टोरेंट की चल रहा है उंसके बाद शहर में 3 जून 2022 को जुमे की नमाज के बाद जो हिंसा भड़की थी, उस दिन पत्थरबाजों को बिरयानी खिलाई गई थी। सूत्रों के अनुसार इसकी सप्लाई बाबा बिरयानी ने ही की थी। दरअसल 3 जून को हुई हिंसा में कम उम्र के बच्चों द्वारा पथराव के CCTV फुटेज सामने आए थे। ताजा खुलासे के मुताबिक आरोपितों को न सिर्फ कुछ बिल्डरों द्वारा फंडिंग की गई बल्कि शहर की चर्चित और विवादित बाबा बिरयानी की भी हिंसा में संलिप्तता थी। आरोप है कि बाबा बिरयानी ने न सिर्फ हिंसा के लिए फंड जुटाए, बल्कि पथराव से पहले हमलावरों को बिरयानी भी खिलाई थी। बाबा बिरयानी के मालिक का नाम मुख्तार अहमद बाबा है। उस पर मंदिर की जमीन को कब्ज़ा कर वहाँ बिरयानी की दुकान खोल लेने के आरोप पहले से हैं। मुख़्तार कभी राम-जानकी मंदिर के एक हिस्से में साइकिल रिपेयरिंग का काम करता था।

विज्ञापन

डी-टू गैंग का खजांची है मुख्तार बाबा।

डी-टू गैंग के आतंकी कनेक्शन की जांच कर रही पुलिस के सामने एक नया राज उजागर हुआ पुलिस को 17 साल पुराना एक ऐसा दस्तावेज मिला जिसमें कहा गया है कि बाबा बिरयानी का मालिक मुख्तार बाबा डी-टू गैंग का खजांची है। रिपोर्ट में चौकाने वाला तथ्य यह भी है कि माफिया सरगना अतीक अहमद और मुख्तार अंसारी को गिरोह का राजनैतिक आका बताया गया है। डी-टू गैंग के भाइयों में सबसे खतरनाक रफीक को 29 मार्च 2005 को एसटीएफ व कानपुर पुलिस ने कोलकाता के इंटौली थानाक्षेत्र से गिरफ्तार किया था। उसके कब्जे से .38 बोर की रिवाल्वर बरामद हुई थी। उस वक्त पुलिस ने रफीक से जो पूछताछ की है, उसका पूरा डोजियर डी-टू गैंग की जांच कर रहे पुलिस अधिकारियों के हाथ लगा है। पूछताछ में खुद रफीक ने स्वीकार किया है कि बाबा मुख्तार उसके गिरोह का सदस्य है। उसका काम गिरोह की आर्थिक जरूरतों को पूरा करना है। रफीक ने बाबा मुख्तार को प्रापर्टी डीलर बताया है।

विज्ञापन

हालांकि, तब तक बाबा मुख्तार बाबा बिरयानी की वजह से शहर में मशहूर हो चुका था। रफीक ने मुख्तार को खजांची के साथ ही गिरोह का आश्रयदाता भी बताया है, जोकि पुलिस का दबाव पड़ने पर अपने घर गिरोह के सदस्यों को पनाह देता है। गिरफ्तारी के कुछ समय बाद गोविंदनगर क्षेत्र में पुलिस अभिरक्षा में रफीक की डी-39 परवेज गैंग द्वारा दिनदहाड़े हत्या कर दी गई थी।

विज्ञापन

दहशत का माहौल बना खाली करा ली हिंदुओं की बस्ती

17 साल पुरानी रिपोर्ट के साथ ही एक और वर्ष 2010 की रिपोर्ट पुलिस के हाथ लगी है। पुलिस रिकार्ड के मुताबिक, डी-2 गैंग का पंजीकरण वर्ष 1988 में हुआ। 19 जनवरी 2010 को गिरोह को आइएस-273 (इंटर स्टेट यानी अंतरराज्यीय) नाम दिया गया। इस रिपोर्ट में जिक्र है कि डी-टू गैंग के राजनैतिक आका प्रयागराज का माफिया सरगना अतीक अहमद और मऊ का मुख्तार अंसारी है। दोनों ही इस गैंग को मदद करते रहे हैं।

विज्ञापन

खास बात यह है कि एक रिपोर्ट, जिसमें गिरोह की आर्थिक हैसियत का जिक्र है, उसमें कहा गया है कि डी-टू गैंग ने अपनी दहशत के बल पर कानपुर में उन बस्तियों से हिंदुओं का पलायन कराया, जहां कभी मिश्रित आबादी रहती थी। कादरी बिल्डिंग उनमें से ही एक बताई जा रही है। डी-टू के दहशर्तगर्दों की जिसने बात नहीं मानी, उन्हें मार डाला गया और जो भागे, उसमें से किसी की जमीन पर जबरन कब्जे करके संपत्ति संबंधी फर्जी कागजात तैयार करवा लिए तो किसी को औने-पौने दाम देकर भगा दिया गया। जमीनों की इस खरीद-फरोख्त से डी-टू गैंग ने तब के समय में करोड़ों के वारे न्यारे किए।


Information is Life