IIT से बीटेक, फिर IPS और अब IAS टॉपर काफी रोचक है आदित्य श्रीवास्तव की कहानी

आदित्य के पिता अजय श्रीवास्तव सेंट्रल ऑडिट डिपार्टमेंट में AAO के पद पर कार्यरत हैं। छोटी बहन...

कानपुर लोकसभा चुनाव 2024 : विकास के लिए समर्पित सांसद को चुनेंगे मतदाता।

(अभय त्रिपाठी) कानपुरः यूपी की कानपुर लोकसभा सीट को मैनचेस्टर ऑफ यूपी के नाम से जानी जाती है।...

Kanpur : भाजपा प्रत्याशी रमेश अवस्थी ने इंडी गठबंधन के प्रभाव वाले कैन्ट, आर्यनगर और सीसामऊ में तेज की कदमताल..

आर्यनगर की गलियों में जाकर जनता से मिले, मिला जनसमर्थन कानपुर। जैसे-जैसे मतदान की तारीख नजदीक आ...

Kanpur : भाजपा प्रत्याशी रमेश अवस्थी ने इंडी गठबंधन के प्रभाव वाले कैन्ट, आर्यनगर और सीसामऊ में तेज की कदमताल..

-आर्यनगर की गलियों में जाकर जनता से मिले, मिला जनसमर्थन कानपुर। जैसे-जैसे मतदान की तारीख नजदीक आ...

इतिहास के पन्नों में : कानपुर के इस इलाके को आखिर कैसे मिला तिलक नगर नाम??

(अभय त्रिपाठी) कानपुर : उत्तर प्रदेश की राजधानी तो नहीं है, पर इस सूबे का सबसे खास शहर तो है। एक...

#Kanpur : लोकसभा प्रत्याशी आलोक मिश्र और विधायक समेत 200 लोगों पर केस दर्ज, अमिताभ बोले लोकतंत्र नहीं लाठीतंत्र।

यूपी के कानपुर (Kanpur) में इंडिया गठबंधन (India Alliance) के लोकसभा प्रत्याशी और समाजवादी पार्टी...

Kanpur : चोरों के हौसले बुलंद,स्वरूप नगर में दिनदहाड़े चोर स्कूटी लेकर रफूचक्कर।

कानपुर : बेखौफ अपराधी पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था को धता बताते हुए शहर में ताबड़तोड़ चोरी की वारदातों...

Kanpur News : मरीजों की सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं हैः मुख्य सचिव

कानपुर। प्रदेश के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने कहा कि मरीजों की सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं है।...

#Kanpur : बुजुर्ग पिता की सेवा करना बैंक कर्मी के लिए बना काल, कलयुगी संतानें और पत्नी ने गला दबाकर हत्या का किया प्रयास।

कानपुर। बैंककर्मी ने अपनी पत्नी व बच्चों समेत उनके साथियों पर डंडे व रॉड से पीटने व गला दबाकर...

“बुजुर्ग लड़े गोरों से हम लडेंगे चोरो से” कानपुर में ऐसा क्या हुआ की थाने के बाहर ये लगने लगे नारे?

कानपुर : शहर में चारों ओर ईद मुबारकबाद के शोर के बीच अचानक पनकी थाने के बाहर हंगामा होने लगा,...
Information is Life

पिता और पुत्री के अद्भुत प्रेम के उदगारों का वर्णन।

कानपुर की प्रतिष्ठित शिक्षाविद् एवं समाज सेविका डॉ परमजीत कौर छाबरा की नई पुस्तक का “याद बहुत आते हो तुम” का विमोचन प्रसिद्ध कवयित्री और साहित्यकार डॉ कमल मुसद्दी के द्वारा गुरुवार को कानपुर जर्नलिस्ट क्लब में किया गया। विमोचन कार्यक्रम का संचालन रंजना यादव द्वारा किया गया।

पुस्तक डॉ परमजीत कौर छाबरा ने अपने पिता सरदार जोगिन्दर सिंह की स्मृति में लिखी है पुस्तक में पिता और पुत्री के अद्भुत प्रेम के उदगारों का गजब का वर्णन है। अक्सर कहा जाता है कि आपका बेटा तभी तक आपका बेटा होता है जब तक इसका विवाह नहीं हो जाता। फिर वह किसी का दामाद बन जाता है, पति बन जाता है, जीजा बन जाता है, पिता बन जाता है लेकिन पुत्र कम ही रह पाता है। परंतु कुदरत की अनोखी सुंदरता है बेटी हमेशा बेटी ही रहती है उसके अंदर अपने माता-पिता के प्रेम में कभी भी कैसी भी कमी नहीं आती ॥

डॉक्टर परमजीत कौर ने मौजूदा समय मे सेठ एमआर जयपुरिया स्कूल प्रतापगढ़ की प्रिंसिपल हैं। उन्होंने कई पुस्तकें लिखी है। उनकी अधिकांश पुस्तकों में मानवीय मूल्य भावनात्मकता एवं मार्मिकता का मूलाधार होता है। उनके द्वारा लिखी गई आखिरी पुस्तक पुस्तक वर्चुअल से वास्तव तक भी यही दर्शाती है कि किस प्रकार मोबाइल ने एक कृतिम दुनिया सृजित करके संबंधों मानवीय मनोभावों और आपसी विश्वास को खंडित कर के रख दिया है। पुस्तक अगस्त माह से पाठकों के लिए विभिन्न वेबसाइट एवं क्रय केंद्रों पर उपलब्ध है। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से कानपुर बार एसोसिएशन के पूर्व महामंत्री अनूप कुमार द्विवेदी, ब्रजभूषण सिंह, भगवन्त अनमोल, डॉ राकेश शुक्ला, मृदुल कपिल मौजूद रहे।


Information is Life