Jyoti Murder Case Kanpur: हत्यारें पीयूष को न्यायालय से राहत नहीं…

अपर जिला जज कोर्ट ने 2022 में सुनाई थी छह को उम्र कैद की सजा.. उच्च न्यायालय से नहीं मिली राहत तो...

Kanpur लायर्स चुनाव का परिणाम घोषित,अध्यक्ष श्याम नारायण सिंह और अभिषेक तिवारी बने महामंत्री।

कानपुर : लायर्स एसोसिएशन के नये अध्यक्ष और महामंत्री चुन लिये गये हैं। .बुधवार देर शाम अध्यक्ष पद...

कानपुर के पोस्टर पर मचा बवाल राहुल गांधी ‘कृष्ण’ और अजय राय बने अर्जुन….

राहुल गांधी की भारत जोड़ा न्याय यात्रा कानपुर पहुंची है. कानपुर के एक कांग्रेस नेता द्वारा लगवाया...

पश्चिम बंगाल में रिपब्लिक बांग्ला के रिपोर्टर को किया गिरफ्तार,जर्नलिस्ट क्लब ने की कड़ी निन्दा।

पश्चिम बंगाल में ‘रिपब्लिक बांग्ला’ टीवी न्यूज़ चैनल के पत्रकार सन्तु पान को गिरफ्तार कर लिया गया...

रेड टेप कल्चर’ को ‘रेड कार्पेट कल्चर’ में बदला, UP ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में बोले PM मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं जब भी विकसित भारत की बात करता हूं तो इसके लिए नई सोच की बात करता...

IPS Amitabh Yash: एनकाउंटर स्पेशलिस्ट अमिताभ यश बने यूपी के नए ADG ला एंड ऑर्डर, जाने इनके बारे में।

IPS Amitabh Yash: यूपी पुलिस के सबसे चर्चित अधिकारियों में शामिल आईपीएस अमिताभ यश एडीजी ला एंड...

Kanpur News : पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक का निधन

पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक (71) का निधन हो गया है। बताया जा रहा है कि ठंड लगने से...

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी।

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी। कमलेश दीक्षित डीसीपी...

#Kanpur News : जेके कैंसर बने रीजनल सेंटर, बढ़ेंगी सुविधाएं…

➡️चौथी बार उठी मांग, विधानसभा की याचिका कमेटी को दिया गया पत्र। कानपुर। जेके कैंसर को रीजनल सेंटर...

राज्यसभा चुनाव: सुधांशु त्रिवेदी, अमरपाल मौर्या और आरपीएन सिंह बीजेपी से प्रत्याशी, बीजेपी ने जारी की सूची

Rajya Sabha elections: राज्यसभा की दस सीटों के लिए होने वाले चुनाव में बीजेपी की तरफ से सुंधाशु...
Information is Life

कानपुर : समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के संरक्षक और उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के निधन से जहां एक तरफ सपा कार्यकर्ताओं में शोक है तो वहीं समा समर्थकों में भी गम व्यापत है. दूर-दूर से लोग मुलायम सिंह यादव को अपनी श्रद्धांजलि देने के लिए सैफई आ रहे हैं. इसी बीच कानपुर से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. यहां मुलायम सिंह यादव के निधन की खबर सुनकर एक 10 साल का बच्चा महराजगंज (Maharajganj) से अकेले सैफई (Saifai) के लिए निकल पड़ा. मामले का खुलासा तब हुआ तब कानपुर रेलवे स्टेशन पर बच्चे को जीआरपी ने रोक लिया. बच्चा खुद को समाजवादी पार्टी का स्टार प्रचारक बता रहा है. बता रहा था, जानकारी मिलते ही पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने तत्काल कानपुर के सपा विधायक अमिताभ बाजपेयी को कॉल करके बच्चे को सैफ़ई भेजने का इंतजाम करने को कहा लेकिन अमिताभ को जीआरपी ने जानकारी दी कि वो उस बच्चे को उंसके पिता को सपुर्द कर चुके है और अब वो अपने गाँव मे है जिसके बाद अमिताभ ने अपनी पार्टी के ही एक साथी जो कि महराजगंज निवासी थे संपर्क कर उस बच्चे को सैफ़ई भेजने की व्यवस्था करवाई शनिवार को सुबह नेताजी का नन्हा फैन सैफ़ई पहुँच गया जहाँ उसने सबसे पहले नेताजी के चित्र पर श्रद्धांजलि अर्पित की।

आपको बता दें कि महाराजगंज (Maharajganj) के नौतनवा क्षेत्र में रहना वाला 10 वर्षीय नवरत्न यादव को जैसे ही सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के निधन की जानकारी हुई वह परेशान हो गया. वह मुलायम सिंह यादव को आखिरी बार देखने के लिए खुद बिना किसी को बताए सैफई के लिए निकल पड़ा. वह इटावा तक पहुंच चुका था लेकिन वहां बच्चे ने गलत ट्रेन पकड़ ली जिससे वह सैफई की जगह कानपुर आ पहुंचा. जीआरपी ने कानपुर रेलवे स्टेशन पर बच्चे को रोक लिया और उससे पूछताछ की. जैसी ही पूरा मामला समझ आया जीआरपी ने बच्चे के परिवारवालों को बुलाकर उसे सपुर्द कर दिया था।

कानपुर रेलवे स्टेशन पर बच्चे ने सारे सवालों के जवाब बड़ी ही मासूमियत से दिए. बच्चे ने बताया कि वह नौतनवा विधानसभा का रहने वाला है. जैसी ही उसे पता चला की मुलायम सिंह अब इस दुनिया में नहीं रहे वह जिन कपड़ों में था वैसी ही अपने घर से चला आया. वह अकेले गोरखपुर (Gorakhpur) आया और वहां से लखनऊ तक आया. बच्चे ने बताया कि वह इटावा तक पहुंच गया था लेकिन वहां से अपना रास्ता भटक गया. इसलिए वह कानपुर आ पहुंचा. उसने बताया कि वह मुलायम सिंह यादव के अंतिम संस्कार में शामिल होने जा रहा था. श्यामलाल से जब पूछा गया कि क्या वह अभी भी मुलायम सिंह यादव के परिवार वालों से मिलने जाएगा तो उसने बड़े अफसोस के साथ कहा कि अब घर के लोग आ रहे हैं. मैं बिना बताए यहां आ गया था. घर के लोग रो भी रहे थे. नवरत्न खुद को समाजवादी पार्टी का स्टार प्रचारक बना रहा था।


Information is Life