Jyoti Murder Case Kanpur: हत्यारें पीयूष को न्यायालय से राहत नहीं…

अपर जिला जज कोर्ट ने 2022 में सुनाई थी छह को उम्र कैद की सजा.. उच्च न्यायालय से नहीं मिली राहत तो...

Kanpur लायर्स चुनाव का परिणाम घोषित,अध्यक्ष श्याम नारायण सिंह और अभिषेक तिवारी बने महामंत्री।

कानपुर : लायर्स एसोसिएशन के नये अध्यक्ष और महामंत्री चुन लिये गये हैं। .बुधवार देर शाम अध्यक्ष पद...

कानपुर के पोस्टर पर मचा बवाल राहुल गांधी ‘कृष्ण’ और अजय राय बने अर्जुन….

राहुल गांधी की भारत जोड़ा न्याय यात्रा कानपुर पहुंची है. कानपुर के एक कांग्रेस नेता द्वारा लगवाया...

पश्चिम बंगाल में रिपब्लिक बांग्ला के रिपोर्टर को किया गिरफ्तार,जर्नलिस्ट क्लब ने की कड़ी निन्दा।

पश्चिम बंगाल में ‘रिपब्लिक बांग्ला’ टीवी न्यूज़ चैनल के पत्रकार सन्तु पान को गिरफ्तार कर लिया गया...

रेड टेप कल्चर’ को ‘रेड कार्पेट कल्चर’ में बदला, UP ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में बोले PM मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं जब भी विकसित भारत की बात करता हूं तो इसके लिए नई सोच की बात करता...

IPS Amitabh Yash: एनकाउंटर स्पेशलिस्ट अमिताभ यश बने यूपी के नए ADG ला एंड ऑर्डर, जाने इनके बारे में।

IPS Amitabh Yash: यूपी पुलिस के सबसे चर्चित अधिकारियों में शामिल आईपीएस अमिताभ यश एडीजी ला एंड...

Kanpur News : पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक का निधन

पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक (71) का निधन हो गया है। बताया जा रहा है कि ठंड लगने से...

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी।

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी। कमलेश दीक्षित डीसीपी...

#Kanpur News : जेके कैंसर बने रीजनल सेंटर, बढ़ेंगी सुविधाएं…

➡️चौथी बार उठी मांग, विधानसभा की याचिका कमेटी को दिया गया पत्र। कानपुर। जेके कैंसर को रीजनल सेंटर...

राज्यसभा चुनाव: सुधांशु त्रिवेदी, अमरपाल मौर्या और आरपीएन सिंह बीजेपी से प्रत्याशी, बीजेपी ने जारी की सूची

Rajya Sabha elections: राज्यसभा की दस सीटों के लिए होने वाले चुनाव में बीजेपी की तरफ से सुंधाशु...
Information is Life

चार दिन से लापता है दीनदयालपुरम की युवती, तलाश में फेल रही पुलिस

नौबस्ता के जिस अस्पताल में करती काम वहां का मिला सीसीटीवी फुटेज

कानपुर : चार दिन से लापता तौधकपुर के दीनदयालपुरम की कामिनी की तलाश करने के बजाय नौबस्ता पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही और पीड़ित पिता खुद सुराग ढूंढ लाया। पुलिस को वीडियो साक्ष्य सौंपा जिसमें कामिनी अस्पताल के बाहर रोती नजर आ रही है और साथ काम करने वाला कर्मचारी उसे खींच रहा है। साथ में दो अन्य भी नजर आ रहे हैं। इससे कामिनी के साथ अनहोनी की आशंका बढ़ गई है। वहीं, वीडियो सामने आने के बाद पीड़ित पिता बृजलाल ने रविवार को नौबस्ता थाने में बेटी के अपहरण की धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया।

पिता बृजलाल ने बताया कि उनकी 19 वर्षीय बेटी कामिनी नौबस्ता के एक अस्पताल में काम करती है। दो फरवरी की रात नौ बजे उसका फोन आया और उसे वहां से ले जाने को कहा। 15 मिनट बाद वह वहां पहुंचे तो बेटी अस्पताल में नहीं थी। अस्पताल प्रबंधन व कर्मचारियों रात 8 बजे उंसके चले जाने की जानकारी दी। इस पर उन्होंने अस्पताल प्रबंधन व कर्मचारियों पर शक जताते हुए शिकायत की, लेकिन पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज कर जांच ठप कर दी। पिता के अनुसार, पुलिस ने कुछ नहीं किया लेकिन उन्होंने किसी तरह से अस्पताल में लगे सीसी कैमरे की फुटेज हासिल कर ली। इसमें बेटी रोती नजर आ रही है और अस्पताल कर्मचारी और उसके दोस्त उसे खींच रहे हैं। हालांकि, आगे का वीडियो न होने से कहानी स्पष्ट नहीं हो पा रही।

पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल
मामले में पुलिस की कार्यशैली भी सवालों के घेरे में है। स्वजन की ओर से शिकायत मिलने के बाद भी पुलिस ने अस्पताल के कर्मचारियों या प्रबंधन से पूछताछ की जरूरत नहीं समझी। बड़ी बात तो यह है कि वीडियो फुटेज सामने आने के बाद भी अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

अस्पताल से मिला टूटा मोबाइल

परिवार वालों को कामिनी का टूटा मोबाइल भी अस्पताल से मिल गया है। जो प्रबंधन पहले किसी भी जानकारी से इन्कार कर रहा है, अब नए तथ्यों के सामने आने के बाद बहाना बनाया जा रहा है कि मोबाइल टूटने से कामिनी रो रही थी, जबकि पहले यह तथ्य बताया तक नहीं।

यानी देर रात तक अस्पताल में थी कामिनी

जो वीडियो सामने आया है, उसमें कामिनी रात 8:34 बजे अस्पताल के बाहर दिखाई दे रही है। जबकि रात नौ बजे उसे लेने आए पिता को अस्पताल के कर्मचारियों और प्रबंधन ने बताया कि कामिनी आठ बजे ही अस्पताल से जा चुकी थी। ऐसे में अस्पताल प्रबंधन के इस झूठ से नए सवाल उठ खड़े हुए हैं।

★मामले की जांच गंभीरता से
कराई जाएगी। जो भी दोषी
मिलेगा, उनके खिलाफ कार्रवाई होगी★
प्रमोद कुमार सिंह, डीसीपी दक्षिण


Information is Life