Jyoti Murder Case Kanpur: हत्यारें पीयूष को न्यायालय से राहत नहीं…

अपर जिला जज कोर्ट ने 2022 में सुनाई थी छह को उम्र कैद की सजा.. उच्च न्यायालय से नहीं मिली राहत तो...

Kanpur लायर्स चुनाव का परिणाम घोषित,अध्यक्ष श्याम नारायण सिंह और अभिषेक तिवारी बने महामंत्री।

कानपुर : लायर्स एसोसिएशन के नये अध्यक्ष और महामंत्री चुन लिये गये हैं। .बुधवार देर शाम अध्यक्ष पद...

कानपुर के पोस्टर पर मचा बवाल राहुल गांधी ‘कृष्ण’ और अजय राय बने अर्जुन….

राहुल गांधी की भारत जोड़ा न्याय यात्रा कानपुर पहुंची है. कानपुर के एक कांग्रेस नेता द्वारा लगवाया...

पश्चिम बंगाल में रिपब्लिक बांग्ला के रिपोर्टर को किया गिरफ्तार,जर्नलिस्ट क्लब ने की कड़ी निन्दा।

पश्चिम बंगाल में ‘रिपब्लिक बांग्ला’ टीवी न्यूज़ चैनल के पत्रकार सन्तु पान को गिरफ्तार कर लिया गया...

रेड टेप कल्चर’ को ‘रेड कार्पेट कल्चर’ में बदला, UP ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में बोले PM मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं जब भी विकसित भारत की बात करता हूं तो इसके लिए नई सोच की बात करता...

IPS Amitabh Yash: एनकाउंटर स्पेशलिस्ट अमिताभ यश बने यूपी के नए ADG ला एंड ऑर्डर, जाने इनके बारे में।

IPS Amitabh Yash: यूपी पुलिस के सबसे चर्चित अधिकारियों में शामिल आईपीएस अमिताभ यश एडीजी ला एंड...

Kanpur News : पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक का निधन

पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक (71) का निधन हो गया है। बताया जा रहा है कि ठंड लगने से...

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी।

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी। कमलेश दीक्षित डीसीपी...

#Kanpur News : जेके कैंसर बने रीजनल सेंटर, बढ़ेंगी सुविधाएं…

➡️चौथी बार उठी मांग, विधानसभा की याचिका कमेटी को दिया गया पत्र। कानपुर। जेके कैंसर को रीजनल सेंटर...
Information is Life

कानपुर के डिवीजनल कमिश्नर रहे इफ्तिखारुद्दीन अपने सरकारी अवास पर धर्मांतरण की मुहिम चला रहे थे। एसआइटी की रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है कि वर्ष 2015 के रमजान माह के दौरान अपने राजकीय आवास में नमाज, तराबी और तकरीर का आयोजन करके उसकी वीडियोग्राफी कराई गई थी। इसमें उनके अधीनस्थ मुस्लिम कर्मचारियों को शामिल किया गया था। साथ ही, कुछ धर्म प्रचारकों को बाहर से बुलाया गया था, जिन्होंने तकरीरें की थी।

एसआईटी के सामने गवाह निर्मल कुमार ने बयान दिया कि कमिश्नर साहब ने उससे बोले कि आपके परिवार व तमाम दलित वर्ग के लोगों को इस्लाम धर्म से जोड़ दें तो आपके परिवार की मदद कानपुर के मदरसों से होती रहेगी। इस पर मैंने कहा कि मेरा परिवार किसी भी कीमत पर इस्लाम धर्म ग्रहण नहीं करेंगे। इस पर इफ्तिखारुद्दीन ने कहा कि अगर ऐसा नहीं करोगे तो तुम्हारी जमीन नहीं बचेगी। इसी तरह उनके अधीनस्थ कर्मचारी विनोद कुमार निषाद ने बयान दिया कि कमिश्नर साहब के आने के बाद बंगले का माहौल बदल गया था और रंगोली आदि हटा दी गई थी। हिंदू कर्मचारियों के कलावा पहनने और टीका लगाने की मनाही हो गई थी। बंगले पर रोजाना बाहर के लोग आकर नमाज पढ़ते थे। रमजान में इनकी संख्या कई गुना बढ़ जाती थी। कमिश्नर साहब टीका और कलावा देखकर कर्मचारियों के साथ दुर्व्यवहार करते थे और उनको गालियां देते थे।

हरियाणा और पंजाब में काम करने की जरूरत
कमिश्नर आवास पर आने वाला धर्म प्रचारक एहतेशाम अपनी तकरीर में कहता था कि हमको पंजाब और हरियाणा में काम करने की जरूरत है क्योंकि इन इलाकों में अपना कुदरती दीन है। अल्लाह के काम के लिए जेल जाने से भी नहीं डरना चाहिए। एसआईटी के हाथ लगे वीडियोज में एहतेशाम यह दावा करता नजर आ रहा है कि उसने तमाम लोगों का धर्मांतरण कराया।

धर्मांतरण के आरोप को नकारा
एसआईटी की रिपोर्ट में कहा गया है कि कमिश्नर इफ्तिखारुद्दीन ने धर्मांतरण कराने के आरोप को नकार दिया था। जबकि जांच में इसकी पुष्टि हुई थी। जब एसआईटी ने उनके द्वारा लिखी कई पुस्तकों के मुद्रक और प्रकाशक के बारे में पूछा, तो वह कोई पुख्ता जानकारी नहीं दे सके। वहीं जब पुस्तकों में लिखे आपत्तिजनक अंशों के बारे में पूछताछ की गई तो उन्होंने कहा कि इसमें कुछ अंश अन्य पुस्तकों पर आैर कुछ अंश कुरान की आयतों पर आधारित हैंं। वहीं कुछ अंश उनके निजी विचार हैं।


Information is Life