डॉलर सूचकांक 10 महीने के उच्चतम स्तर पर।

डॉलर सूचकांक 10 महीने के उच्चतम स्तर पर: अमेरिकी डॉलर सूचकांक ने अपनी बढ़त बढ़ा दी है और अब 107 से...

शांति के मसीहा की जयंती पर आधा दर्जन की निर्मम हत्या, दबंगों ने मासूम बच्चों को भी नही बक्शा, खूँखार से तरीके किया क़त्लेआम।

जनपद देवरिया की दुर्भाग्यपूर्ण घटना अत्यंत दुःखद एवं निंदनीय है। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिजनों...

ग़ाज़ियाबाद में पुलिस की एक शर्मनाक चेहरा आया सामने, युवती के साथ छेड़खानी कर उससे अवैध संबंध बनाने की……

एक और पुलिस महिलाओं को सुरक्षित वातावरण देने के लिए मिशन शक्ति और पिंक चौकिया स्थापित कर रही है।...

Kanpur: जाणता राजा महानाट्य का मंचन आज से, शहर के 250 व मुंबई-पुणे से आए 150 कलाकार करेंगे अभिनय।

Kanpur News: वर्ष 2018 के बाद दूसरी बार कानपुर में जाणता राजा का मंचन होगा। सबसे महंगा टिकट पांच...

UP: खुशखबरी! यूपी पुलिस में 60 हजार पदों पर होगी भर्ती, चयन प्रक्रिया में क्या होंगे बदलाव, किन-किन जिलों में होगा फिजिकल, जानें डिटेल्स

➡️सब इंस्पेक्टर, कंप्यूटर ऑपरेटर जैसे पद के लिए ऑनलाइन परीक्षा पर विचार। ➡️सिपाही और जेल वार्डर के...

अतीक और अशरफ अहमद हत्या मामला: यूपी सरकार ने SC में दखिल किया स्टेटस रिपोर्ट का हलफनामा

जस्टिस चौहान कमीशन को बिकरू कांड और उसके बाद विकास दुबे और उसके कुछ सहयोगियों की मौत की जांच की...

यूपी में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल: 32 आईएएस अफसर हुए इधर से उधर, सुल्तानपुर सहित बदल दिए गए छह डीएम

ऐसा माना जा रहा है कि सुल्तानपुर में चिकित्सक हत्याकांड के बाद जिले के जिलाधिकारी का तबादला कर...

Kanpur : ब्लैक स्कार्पियो, आंखो पर चश्मा, सीधा जॉइंट सीपी के ऑफिस में सरेंडर हुआ भाजपा नेता, जानिए मामला।

दवा कारोबारी की आंख फोड़ने वाले भाजपा पार्षद के पति ने साथियों के साथ किया सरेंडररविवार को पुलिस...

लोकसभा चुनाव में अगर लागू हुआ MP वाला फॉर्मूला, कट जाएंगे टिकट, UP में BJP सांसदों की बढ़ी धड़कन।

लोकसभा चुनाव की तैयारियों को पूरा कराया जा रहा है। तमाम राजनीतिक दल अपनी रणनीति को धार देने में...

कानपुर : छोटे भाई को गोली मारकर हत्या करने वाले कलयुगी भाई को पुलिस ने 12 घंटे में दबोचा।

डीसीपी साउथ का बयान कानपुर में एक बड़े भाई ने छोटे भाई की गोली मारकर हत्या कर दी थी. दोनों छत पर...
Information is Life

➡️ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे के तैयार होने से दिल्ली-एनसीआर समेत यूपी में कनेक्टिविटी बेहतर होगी.
➡️यह 4 लेन एक्सप्रेसवे होगा, जिसे 6 लेन तक विस्तारित किया जा सकता है.
➡️इस परियोजना को 2025 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है.

यह एक्‍सप्रेसवे इकोनॉमिक कॉरिडोर के रूप में विकसित किया जाएगा, जो उत्तर प्रदेश के 2 औद्योगिक शहरों गाजियाबाद व कानपुर को जोड़ेगा. एनएचएआई ने एक्सप्रेसवे के लिए आवश्यक 90% भूमि पहले ही अधिग्रहित कर ली है।

Ghaziabad-Kanpur Expressway: देश में कश्मीर से कन्याकुमारी तक सड़कों का तेजी से जाल बिछाया जा रहा है. इनमें एक्सप्रेसवे से लेकर हाईवे शामिल हैं. आर्थिक दृष्टि से भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में भी भारत माला परियोजना के तहत कई रोड इंफ्रा प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है. इसी कड़ी में हम आपको बताने जा रहे हैं एक नए ग्रीनफील्ड कॉरिडोर के बारे में, जिसकी मदद से गाजियाबाद से कानपुर का सफर महज साढ़े 3 घंटे में पूरा हो जाएगा.

इस एक्सप्रेसवे की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (DPR) बनाने वाली कंपनी पहले ही भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) को 3 विकल्प बताए हैं, जिस पर जुलाई में निर्णय लिया जाएगा. 380 किलोमीटर लंबे से ग्रीन फील्ड हाईवे को NHAI द्वारा ग्रीन हाईवे पॉलिसी के तहत बनाया जाएगा.

ये 10 शहर होंगे कवरइस ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे के तैयार होने से दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर प्रदेश में कनेक्टिविटी और बेहतर हो जाएगी, क्योंकि इसकी मदद से राज्य के 10 बड़े शहरों का सफर तय किया जा सकेगा. खास बात है कि इस हाईवे के तैयार होने के बाद गाजियाबाद से कानपुर तक का सफर महज साढ़े 3 घंटे का हो जाएगा. फिलहाल NH-91 गाजियाबाद और कानपुर को जोड़ता है व इसकी लंबाई 468 किलोमीटर है. इसके जरिये करीब 8 घंटे का समय लगता है.
यह एक्‍सप्रेसवे इकोनॉमिक कॉरिडोर के रूप में विकसित किया जाएगा, जो गाजियाबाद कानपुर 2 औद्योगिक शहरों को जोड़ेगा. अधिकारियों के अनुसार, यह एक्सप्रेसवे हापुड़, बुलन्दशहर, अलीगढ, कासगंज, एटा, फर्रुखाबाद, उन्नाव और कन्नौज के सीमावर्ती क्षेत्रों से होते हुए गाजियाबाद और कानपुर को जोड़ेगा.

नए ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे की खासियतेंभारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) के अनुसार, उत्तर प्रदेश में गाजियाबाद और कानपुर को जोड़ने वाले 4 लेन एक्सप्रेसवे होगा, जिसे 6 लेन तक विस्तारित किया जा सकता है. इस कॉरिडोर में कहां एलिवेटेड, अंडरपास और कहां एंट्री व एग्जिट प्वाइंट होंगे. इसकी जानकारी डीपीआर अप्रूवल के बाद मिलेगी. गाजियाबाद से कानपुर तक का सफर हरियाली से भरा होगा.

इस परियोजना का लक्ष्य यात्रा के समय को कम करना और दोनों शहरों के बीच कनेक्टिविटी को बढ़ाना है. एनएचएआई ने एक्सप्रेसवे के लिए आवश्यक 90% भूमि पहले ही अधिग्रहित कर ली है, और निर्माण जल्द ही शुरू होने की उम्मीद है. इस परियोजना को 2025 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है.


Information is Life