‘सौ लाओ, सरकार बनाओ’, अखिलेश यादव के मॉनसून ऑफर ने बढ़ाया यूपी का सियासी पारा।

समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव लगातार यूपी की योगी सरकार पर हमला कर रहे हैं। अब अखिलेश ने...

कानपुर में सैकड़ों की संख्या में चल रहे अवैध हुक्का बार, नशा परिवारों को झोंक रहा तबाही के द्वार-ज्योति बाबा…

विज्ञापन कानपुर : विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के अनुसार तंबाकू का दूसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता और...

कानपुर में जमीनों का नया सर्किल रेट जारी, जमीन खरीदने के लिए अब इतनी ढीली करनी होगी जेब, देख लीजिए लिस्ट

विज्ञापन Kanpur New Circle Rate of Land: कानपुर में जमीनों के दाम में वृद्धि हो गई है। नए सर्किल...

लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर बड़ा हादसा, दूध के कंटेनर से टकराई डबल डेकर बस, 18 लोगों की मौत,30 घायल

उन्नाव में लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर बड़ा हादसा हो गया। डबल डेकर बस और दूध के कंटेनर में जोरदार...

Uptvlive Kanpur News : अब घायलों को फर्स्ट एड देंगी कमिश्नरेट पुलिस, रेडक्रॉस सोसायटी ने वर्कशॉप में दी ट्रेनिंग।

विज्ञापन कानपुर : किसी भी हादसे में जख्मी व्यक्ति को पुलिस के जवान मौके पर ही फर्स्ट एड देकर उसके...

UPtvLIVE Kanpur : सीसामऊ उपचुनाव के लिए नसीम सोलंकी नाम फाइनल, सपा सुप्रीमो ने की घोषणा।

विज्ञापन कानपुर : सीसामऊ विधानसभा क्षेत्र से सपा की प्रत्याशी बनाई गईं इरफान सोलंकी की पत्नी नसीम...

कानपुर : कमिश्नरेट पुलिस की कार्यशैली से छुब्ध विधायक साँगा ने सीएम से की मुलाकात।

UP News: माना जाता है कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार अपराधियों पर सख्त है। सरकार ने उत्तर...

कौन है ब्रिटेन की लेबर पार्टी से MP बने नवेंदु मिश्रा? कानपुर-गोरखपुर से है नाता, गजब है कहानी

UP News: ब्रिटेन की सत्ता पर 14 सालों से काबिज कंजर्वेटिव पार्टी को चुनावों में करारी हार मिली है....

Kanpur : राजस्व अभिलेखों में खेल करके करोड़ों की जमीन पर किया गया फर्जीवाड़ा, डीएम ने FIR कराने के दिए निर्देश।

विज्ञापन कानपुर कलेक्ट्रेट में तैनात ईआरके साधना तिवारी की मिलीभगत से राजस्व अभिलेखों में हेराफेरी...
Information is Life

Allahabad High Court की पीठ तीन आरोपियों की याचिका पर विचार कर रही थी। इसमें उनके खिलाफ दायर आरोप पत्र को रद्द करने की मांग की गई।

Allahabad High Court: इलाहाबाद हाईकोर्ट ने हाल ही में एक रेप केस के आरोपी की जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए बड़ा फैसला दिया है। हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने कहा है कि यदि कोई महिला शारीरिक संबंध बनाते समय विरोध नहीं करती है तो ये नहीं कहा जा सकता है कि संबंध उसकी मर्जी के खिलाफ था।

कोर्ट ने कठोर टिप्पणी

एक रिपोर्ट के अनुसार, न्यायमूर्ति संजय कुमार सिंह की पीठ ने 40 वर्षीय विवाहित महिला/पीड़िता के साथ रेप के आरोपी के खिलाफ शुरू की गई आपराधिक कार्रवाई पर रोक लगाते हुए यह टिप्पणी की है। कोर्ट ने साथ में ये भी कहा कि कथित पीड़िता, अपने पति को तलाक दिए बिना और दो बच्चों को छोड़कर आरोपी (जमानक आवेदक) के साथ शादी करने के लिए लिव-इन रिलेशनशिप में रहने लगी।

आरोप पत्र रद्द करने की मांग की
रिपोर्ट के मुताबिक, हाईकोर्ट की पीठ तीन आरोपियों की ओर से दायर याचिका पर विचार कर रही थी। इसमें उनके खिलाफ दायर आरोप पत्र को रद्द करने की मांग की गई। बताया गया है कि जौनपुर में आरोपियों के खिलाफ रेप समेत अन्य गंभीर धाराओं में केस दर्ज किया गया था।

जौनपुर का है मामला
ये मामला उत्तर प्रदेश के जौनपुर का है। यहां रहने वाली एक महिला की शादी वर्ष 2001 में हुई ती। शादी के बाद दो बच्चे हुए। रिपोर्ट के अनुसार महिला और उसके पति के बीच संबंध अच्छे नहीं थे। इसी दौरान महिला राकेश यादव नाम के शख्स के संपर्क में आ गई। महिला ने आरोप लगाया कि राकेश ने शादी का झांसा देकर उसे बहला-फुसला लिया। वह आरोपी के साथ करीब पांच महीने तक रही। इस दौरान आरोपी ने उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए।

यह भी आरोप लगाया गया कि राकेश के परिचित राजेश यादव और लाल बहादुर समेत राकेश के पिता ने महिला को आश्वासन दिया कि वे उसकी शादी करा देंगे। इसी दौरान उन्होंने महिला से सादे स्टांप पेपर पर हस्ताक्षर ले लिए और बताया कि उसकी नोटरी शादी हो गई है, जबकि ऐसी कोई शादी नहीं हुई थी।

वकील ने दिए ये तर्क
दूसरी ओर, आवेदकों (आरोपी) के वकील की ओर से तर्क दिया गया कि कथित पीड़िता करीब 40 वर्ष की एक विवाहित महिला है और दो बच्चों की मां है। वह हर तरह से परिपक्व है। वकील ने कहा कि सहमति से ही आवेदक (आरोपी) और महिला के बीच शारीरिक संबंध बने, इसलिए यह रेप का मामला नहीं है।

कोर्ट ने सुनाया ये आदेश
दोनों ओर की दलीलों पर विचार करने के बाद न्यायालय ने आवेदकों (आरोपियों) के खिलाफ आपराधिक मामले की आगे की कार्यवाही पर रोक लगा दी, जबकि विपक्षी पक्षों (महिला पक्ष) को छह सप्ताह के भीतर जवाबी हलफनामा दाखिल करने की छूट दी। बताया गया है कि मामले को नौ सप्ताह बाद सुनवाई के लिए रखा गया है।


Information is Life