Jyoti Murder Case Kanpur: हत्यारें पीयूष को न्यायालय से राहत नहीं…

अपर जिला जज कोर्ट ने 2022 में सुनाई थी छह को उम्र कैद की सजा.. उच्च न्यायालय से नहीं मिली राहत तो...

Kanpur लायर्स चुनाव का परिणाम घोषित,अध्यक्ष श्याम नारायण सिंह और अभिषेक तिवारी बने महामंत्री।

कानपुर : लायर्स एसोसिएशन के नये अध्यक्ष और महामंत्री चुन लिये गये हैं। .बुधवार देर शाम अध्यक्ष पद...

कानपुर के पोस्टर पर मचा बवाल राहुल गांधी ‘कृष्ण’ और अजय राय बने अर्जुन….

राहुल गांधी की भारत जोड़ा न्याय यात्रा कानपुर पहुंची है. कानपुर के एक कांग्रेस नेता द्वारा लगवाया...

पश्चिम बंगाल में रिपब्लिक बांग्ला के रिपोर्टर को किया गिरफ्तार,जर्नलिस्ट क्लब ने की कड़ी निन्दा।

पश्चिम बंगाल में ‘रिपब्लिक बांग्ला’ टीवी न्यूज़ चैनल के पत्रकार सन्तु पान को गिरफ्तार कर लिया गया...

रेड टेप कल्चर’ को ‘रेड कार्पेट कल्चर’ में बदला, UP ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में बोले PM मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं जब भी विकसित भारत की बात करता हूं तो इसके लिए नई सोच की बात करता...

IPS Amitabh Yash: एनकाउंटर स्पेशलिस्ट अमिताभ यश बने यूपी के नए ADG ला एंड ऑर्डर, जाने इनके बारे में।

IPS Amitabh Yash: यूपी पुलिस के सबसे चर्चित अधिकारियों में शामिल आईपीएस अमिताभ यश एडीजी ला एंड...

Kanpur News : पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक का निधन

पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक (71) का निधन हो गया है। बताया जा रहा है कि ठंड लगने से...

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी।

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी। कमलेश दीक्षित डीसीपी...

#Kanpur News : जेके कैंसर बने रीजनल सेंटर, बढ़ेंगी सुविधाएं…

➡️चौथी बार उठी मांग, विधानसभा की याचिका कमेटी को दिया गया पत्र। कानपुर। जेके कैंसर को रीजनल सेंटर...
Information is Life

Opposition MPs Suspended: निलंबित सभी सांसद विपक्षी दलों से हैं. ऐसे में इस कार्रवाई को लेकर उनमें खासी नाराजगी देखने को मिल रही हैं. जबकि कई दलों ने अब भी चुप्पी साधी हुई है.

Opposition MPs Suspended: शीतकालीन सत्र के दौरान देश की संसद से 143 सांसदों को निलंबित कर दिया गया, जिसे देश की सियासत गरमाई हुई है. तमाम विपक्षी दल सरकार के इस रवैये पर सवाल उठा रहे हैं. सबसे बड़ी बात ये हैं कि संसद के इतिहास में ये पहली बार है जब इतनी बड़ी संख्या में एक साथ इतने सांसदों को निलंबित किया गया हो. बावजूद इसके कई विपक्षी दल इस मुद्दे पर चुप्पी साधे हुए हैं. ऐसे में उनकी खामोशी भी कई सवाल पैदा करती है.

निलंबित सभी सांसद विपक्षी दलों से हैं. ऐसे में इस कार्रवाई को लेकर उनमें खासी नाराजगी देखने को मिल रही हैं. कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, जेडीयू, आरजेडी, टीएमसी समेत तमाम बड़े दलों के नेताओं ने इसपर सवाल भी उठाए और तीखी प्रतिक्रिया दी है, वहीं दूसरी तरह बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती अब तक खामोश हैं. उन्होंने न तो इस कार्रवाई पर सवाल उठाए हैं और न हीं उनकी तरफ से सोशल मीडिया या फिर प्रेस के जरिए कोई बयान सामने आया है.

बसपा सुप्रीमो की खामोशी पर सवाल
मायावती का ये रुख ऐसे में और हैरान करने वाला है जबकि निलंबित होने वाले सांसदों में बसपा सांसद दानिश अली का भी नाम शामिल है. बावजूद इसके बसपा सुप्रीम मायावती और न ही उनके भतीजे आकाश आनंद ने इस पर कोई प्रतिक्रिया दी हैं. बसपा सुप्रीमो इस मुद्दे पर अपने सांसद के साथ भी खड़ी नहीं दिखाई दे रही है. हालांकि दानिश अली ने खुद के निलंबन को लेकर जरूर सरकार पर निशाना साधा है.

दानिश अली ने खुद के निलंबन को लेकर कहा, “यह अजीब है कि अध्यक्ष कहते हैं कि हमें निलंबित किया जा रहा है क्योंकि हमने संसदीय मर्यादा का उल्लंघन किया है. सरकार से सवाल पूछना कैसे संसदीय मर्यादा उल्लंघन की श्रेणी में आता है? जब सदन में गालियां दी गईं तो इसका उल्लंघन नहीं हुआ, उस सांसद को न तो निलंबित किया गया और न ही उसके खिलाफ कोई कार्रवाई की गई.”

दरअसल विपक्षी दल संसद में घुसे दो हमलावरों को लेकर गृहमंत्री अमित शाह से जवाब मांग रहे हैं, जिसे लेकर उन्होंने हंगामा किया जिसके बाद विपक्ष के 143 सांसदों को निलंबित कर दिया गया हैं।


Information is Life