Jyoti Murder Case Kanpur: हत्यारें पीयूष को न्यायालय से राहत नहीं…

अपर जिला जज कोर्ट ने 2022 में सुनाई थी छह को उम्र कैद की सजा.. उच्च न्यायालय से नहीं मिली राहत तो...

Kanpur लायर्स चुनाव का परिणाम घोषित,अध्यक्ष श्याम नारायण सिंह और अभिषेक तिवारी बने महामंत्री।

कानपुर : लायर्स एसोसिएशन के नये अध्यक्ष और महामंत्री चुन लिये गये हैं। .बुधवार देर शाम अध्यक्ष पद...

कानपुर के पोस्टर पर मचा बवाल राहुल गांधी ‘कृष्ण’ और अजय राय बने अर्जुन….

राहुल गांधी की भारत जोड़ा न्याय यात्रा कानपुर पहुंची है. कानपुर के एक कांग्रेस नेता द्वारा लगवाया...

पश्चिम बंगाल में रिपब्लिक बांग्ला के रिपोर्टर को किया गिरफ्तार,जर्नलिस्ट क्लब ने की कड़ी निन्दा।

पश्चिम बंगाल में ‘रिपब्लिक बांग्ला’ टीवी न्यूज़ चैनल के पत्रकार सन्तु पान को गिरफ्तार कर लिया गया...

रेड टेप कल्चर’ को ‘रेड कार्पेट कल्चर’ में बदला, UP ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में बोले PM मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं जब भी विकसित भारत की बात करता हूं तो इसके लिए नई सोच की बात करता...

IPS Amitabh Yash: एनकाउंटर स्पेशलिस्ट अमिताभ यश बने यूपी के नए ADG ला एंड ऑर्डर, जाने इनके बारे में।

IPS Amitabh Yash: यूपी पुलिस के सबसे चर्चित अधिकारियों में शामिल आईपीएस अमिताभ यश एडीजी ला एंड...

Kanpur News : पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक का निधन

पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक (71) का निधन हो गया है। बताया जा रहा है कि ठंड लगने से...

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी।

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी। कमलेश दीक्षित डीसीपी...

#Kanpur News : जेके कैंसर बने रीजनल सेंटर, बढ़ेंगी सुविधाएं…

➡️चौथी बार उठी मांग, विधानसभा की याचिका कमेटी को दिया गया पत्र। कानपुर। जेके कैंसर को रीजनल सेंटर...
Information is Life

पत्रकार आशुतोष मिश्र की फेसबुक वॉल से….
कानपुर: बात 24 अक्टूबर 1990 की है। राम जन्म भूमि विवाद चरम पर था। ऐसा माहौल बना था कि बच्चा-बच्चा राम का, जन्मभूमि के काम का..जैसे नारे हर बच्चे, जवान और बूढ़ों तक के दिलो दिमाग पर छाए थे। मैं छात्र राजनीति में था। विद्यार्थी परिषद से जुड़ा था। मेरी पूरी टीम जोश से लवरेज थी। एक ही टीस भरी बात.. बहुत हुआ अब अयोध्या में हमारे रामलला विराजमान होने चाहिए। बस हमारी टोली अयोध्या के लिए निकल पड़ी, माथों पर भगवा पट्टी, बंधी मुट्ठियां और दम लगा कर राम लला हम आएंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे जैसे जोश भरे नारों से गर्म माहौल। बढ़ते कदमों के साथ राम चरित मानस की राम काज कीनै बिना, मोहि कहां विश्राम की चौपाई मन में हिलौर ले रही थी। तभी साथी राहुल दुबे ने हाथ पकड़कर उठाया..मेरी तंद्रा तोड़ते हुए नारा दिया कि जिस ओर जवानी चलती है..उस ओर जमाना चलता है..। हम इंद्रानगर से कल्याणपुर भी नहीं पहुंच पाए और इंटेलीजेंस की टीम की सूचना पर पुलिस ने हमें घेर लिया।

एक दरोगा की कड़क आवाज सभी को थाने ले चलो..। मुझे, मेरे साथी राहुल दुबे, संजीव तिवारी समेत अन्य लोगों को पुलिस की जीप में थकियाते हुए बैठाया गया। हम लोग पुलिस की जीप में बैठकर जय श्रीराम-जय श्रीराम के नारे लगे रहे थे। जीप कल्याणपुर थाने के सामने रुकी। हमे लगा थाने ले जाया जाएगा, लेकिन तभी सफारी पहने एक व्यक्ति ने दरोगा से बात की और उसके बाद जीप हमे वहां से लेकर पनकी की तरफ चलने लगी। आगे बैठे दरोगा से पूछा कि कहां ले जा रहे हैं..तो जवाब मिला..चुपचाप बैठे रहो। नेतागिरी का बड़ा शौक है न..सब जेल जाओगे। थोड़ी ही देर में जीप पनकी थाने पहुंची और हमे उतारा गया। वहां पहले 30-35 लोग पुलिस हिरासत में बैठे थे। हमारे माथों पर भगवा पट्टी देख नारे लगाने लगे..जय श्रीराम..जय श्रीराम..। हम सभी भी जोश से भर गए। पुलिस ने लिखापढ़ी कर हमें हिरासत में लेेने की औपचारिकता पूरी की। शाम के छह बजे थे। तभी पनकी के कुछ घरों से पूड़िया बनाकर पैकेट हम सभी लोगों के लिए थाने में भेजे गए। सुबह के भूखे हम लोगों को बहुत राहत मिली। हिरासत में बैठाए गए सभी लोगों से आपस में परिचय हुआ। कोई बजरंग दल से तो कोई आरएसएस से। इन सभी के बीच मैं, राहुल और संजीव सबसे कम उम्र के थे।
रात के नौ बजे थे। थाने में बैठे हम लोग ऊंघने लगे थे। तभी पुलिसकर्मियों की आवाजें आने लगीं…उठो…चलो सभी बस में बैठो..जल्दी करो। हमें एक बस में बैठाया गया। मैने अपने साथियों से कहा कि लगता है कि जेल ले जाया जा रहा है। बस जेल जाने के रास्ते के बजाय जीटी रोड पर आ गई तो कुछ लोगों ने पुलिसकर्मियों से पूछा कि कहां ले जा रहे हैं…बताओ तो? जवाब मिला सेंट्रल जेल फतेहगढ़। सेंट्रल जेल का नाम सुनकर मेरा मन घबराने लगा। घर याद आने लगा। मेरा पापा की पोस्टिंग मथुरा जिले के मांगरू गांव में उप प्रधानाचार्य के रूप में थी। पापा मूल रूप से कानपुर देहात के निवासी थे। इसलिए मुझे कानपुर में सेट करने के लिए इंटर के बाद पढ़ाई के लिए यहां भेजा था। तब घर में फोन भी नहीं था। लगा कि अब कोई चिट्ठी भेजेगा तो पापा को पता चलेगा कि पढ़ने के लिए भेजा बेटा तो जेल चला गया। मन में द्वंद चल रहा था। खयाल आया कि सात साल की उम्र में पापा के साथ आरएसएस के शिविर में तीन दिन आगरा में बिताए थे। तब शिविर में सबसे छोटा स्वयं सेवक था। रामकाज के लिए जेल जा रहा हूं….शायद पापा व मम्मी को दुख न हो। इसी मानसिक द्वंद में समय का पता नहीं चला और हमारी बस फतेहगढ़ सेंट्रल जेल के गेट पर पहुंच गई। सवेरा होने वाला था।। एक-एक कर हमें कारागार में दाखिल कर दिया गया। सभी का मुलाहिजा (कपड़े उतारकर शरीर के चिह्न देखना) हुआ और बैरिक में पहुंचा दिया गया। यहां कानपुर के काफी लोग पहले से ही जेल में थे। घर से गिरफ्तार किए गए मेरे मामा राजनारायण तिवारी भी इसी बैरक में थे। मुझे साथियों समेत आइआइटी के प्रोफेसर अठावले जी के बगल में जगह मिली। इस बैरक में जगार (सभी लोग जग गए) हो गई थी। अठावले जी हम तीनों को समझाने लगे..परेशान मत हो। बोले, सोना है तो एक-दो घंटे सो लो। ठीक सात बजे हम बैरक के आगे लान में शाखा लगाएंगे। इधर-उधर करवट बदली, नींद नहीं आ रही थी। दैनिक क्रिया से निवृत्त हुए और सभी के साथ शाखा लगाने पहुंच गए। अठावले जी ने ध्वज फहराया और नमस्ते सदा वत्सले…। जय श्री राम, राम लला हम आएंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे जैसे नारों की गूंज जेल की दीवारों के पार पहुंचती थी। पक्के बंदी सेवाभाव से लगे थे, कहते थे कि आप लोग रामभक्त है। सेवा करने का अवसर मिला है। शासन की कड़ाई के बावजूद कुछ जेल अफसर भी नरम दिल से पेश आते थे। तीसरे दिन राहुल व संजीव के पिता जी जेल में मिलने पहुंचे। मुझे भी मिलने के लिए बुलाया। डर लग रहा था कि डांटेंगे..खुद तो जेल आए ही हमारे बच्चों को भी ले आए..लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। हम लोगों के हाथों में खाने के सामान के थैले थमा दिए। हालांकि जेल में हम लोग कभी-कभी खुद ही बैरिक के लान में घड़ों में तहेरी बनाते थे। सामान जेल प्रशासन देता था। एक-एक कर दिन कट रहे थे। दो नंवबर को एक पक्के (सजायाफ्ता) ने आकर बताया कि आज तुम लोग रिहा हो जाओगे। शाम को हमारी

रिहाई हुई। जेल अधीक्षक ने नौ दिन कारावास में रहने का प्रमाणपत्र थमाते हुए हमें बाहर निकलवाया। सेंट्रल जेल फतेहगढ़ में नौ दिन के कारावास के बाद हम आजाद थे। छूटते ही गेट पर जय श्री राम का उद्घोष किया और कानपुर के लिए निकल पड़े। अब सुकून है कि 22 जनवरी को मेरे राम की अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा हो रही है। हमारी पीढ़ी इस ऐतिहासिक पल की साक्षी बन रही है।


Information is Life