पीड़ित तो छोड़िए, “पुलिस कमिश्नर” की भी नहीं सुन रही कानपुर पुलिस।

कानपुर : आम आदमी के लिए पुलिस को लेकर हमेशा एक समस्या रहती है कि पुलिस उनकी एफआईआर दर्ज नहीं करती....

Hinduja Family: नौकरों के साथ बुरा बर्ताव पड़ा भारी, हिंदुजा फैमिली के इन लोगों को जाना होगा जेल

विज्ञापन Hinduja Family Servant Case: भारतीय मूल के अरबपतियों के परिवार हिंदुजा के चार सदस्यों को...

UPtvLIVE : लिवर रोगों से सालाना लाखों लोगों की हो जाती है मौत, सिरोसिस-लिवर फेलियर के भारत में बढ़े रोगी।

विज्ञापन लिवर की बीमारियां वैश्विक स्तर पर स्वास्थ्य के लिए बड़ा बोझ रही हैं। पिछले एक दशक के...

कानपुर : मजिस्ट्रेट निपटाएंगे थाना दिवस में जमीनी विवाद, नई व्यवस्था आज से होगी शुरू।

शहर में लगातार बढ़ रहे जमीन विवाद को खत्म करने के लिए डीएम राकेश कुमार सिंह ने नई पहल की है। अब हर...

#Kanpur : अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर शिक्षकों और छात्राओं ने किया योग।

विज्ञापन कानपुर, श्री सनातन धर्म सरस्वती बालिका विद्यालय में 10वें अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस आयोजन...

IPS Transfer: यूपी में 16 सीनियर IPS अधिकारियों का तबादला, देखें लिस्ट

यूपी में 16 सीनियर आईपीएस अधिकारियों का तबादला किया गया हैं। जिसमें प्रमुख रूप से अमरेंद्र कुमार...

Kanpur : पुलिस कमिश्नरेट को भूमाफिया की खुली चुनौती, दबंगई से किसान के मकान पर कर लिया कब्जा।

पीड़ित किसान यूपी में दूसरी बार सरकार बनने के बाद सीएम योगी का अवैध कब्जों को लेकर सख्त रुख अतियार...

Nepal Famous Places: नेपाल में घूमने के लिए ये 10 जगहें हैं बेस्ट, जरूर करें ट्रिप प्लान

Places To Visit In Nepal: नेपाल दुनिया के सबसे खूबसूरत देशों में से एक है। यहां लाखों की संख्या...

Ayodhya Ram mandir: राजस्थान से रामलला के लिए पहुंचा अनोखा उपहार, पंच धातु से बना तीर-धनुष और गदा इसमें शामिल

UP News: अयोध्या स्थित राममंदिर में पंच धातु से निर्मित विशाल तीर धनुष और हनुमान गदा रामलला को...

अयोध्या : रामलला का दर्शन करने का बना रहे हैं प्लान? इन जगहों को जरूर करें एक्स्प्लोर

भगवान श्री राम की जन्मस्थली अयोध्या में लाखों श्रद्धालु आते हैं। यहां रामलला के दर्शन के साथ-साथ...
Information is Life

पत्रकार आशुतोष मिश्र की फेसबुक वॉल से….
कानपुर: बात 24 अक्टूबर 1990 की है। राम जन्म भूमि विवाद चरम पर था। ऐसा माहौल बना था कि बच्चा-बच्चा राम का, जन्मभूमि के काम का..जैसे नारे हर बच्चे, जवान और बूढ़ों तक के दिलो दिमाग पर छाए थे। मैं छात्र राजनीति में था। विद्यार्थी परिषद से जुड़ा था। मेरी पूरी टीम जोश से लवरेज थी। एक ही टीस भरी बात.. बहुत हुआ अब अयोध्या में हमारे रामलला विराजमान होने चाहिए। बस हमारी टोली अयोध्या के लिए निकल पड़ी, माथों पर भगवा पट्टी, बंधी मुट्ठियां और दम लगा कर राम लला हम आएंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे जैसे जोश भरे नारों से गर्म माहौल। बढ़ते कदमों के साथ राम चरित मानस की राम काज कीनै बिना, मोहि कहां विश्राम की चौपाई मन में हिलौर ले रही थी। तभी साथी राहुल दुबे ने हाथ पकड़कर उठाया..मेरी तंद्रा तोड़ते हुए नारा दिया कि जिस ओर जवानी चलती है..उस ओर जमाना चलता है..। हम इंद्रानगर से कल्याणपुर भी नहीं पहुंच पाए और इंटेलीजेंस की टीम की सूचना पर पुलिस ने हमें घेर लिया।

एक दरोगा की कड़क आवाज सभी को थाने ले चलो..। मुझे, मेरे साथी राहुल दुबे, संजीव तिवारी समेत अन्य लोगों को पुलिस की जीप में थकियाते हुए बैठाया गया। हम लोग पुलिस की जीप में बैठकर जय श्रीराम-जय श्रीराम के नारे लगे रहे थे। जीप कल्याणपुर थाने के सामने रुकी। हमे लगा थाने ले जाया जाएगा, लेकिन तभी सफारी पहने एक व्यक्ति ने दरोगा से बात की और उसके बाद जीप हमे वहां से लेकर पनकी की तरफ चलने लगी। आगे बैठे दरोगा से पूछा कि कहां ले जा रहे हैं..तो जवाब मिला..चुपचाप बैठे रहो। नेतागिरी का बड़ा शौक है न..सब जेल जाओगे। थोड़ी ही देर में जीप पनकी थाने पहुंची और हमे उतारा गया। वहां पहले 30-35 लोग पुलिस हिरासत में बैठे थे। हमारे माथों पर भगवा पट्टी देख नारे लगाने लगे..जय श्रीराम..जय श्रीराम..। हम सभी भी जोश से भर गए। पुलिस ने लिखापढ़ी कर हमें हिरासत में लेेने की औपचारिकता पूरी की। शाम के छह बजे थे। तभी पनकी के कुछ घरों से पूड़िया बनाकर पैकेट हम सभी लोगों के लिए थाने में भेजे गए। सुबह के भूखे हम लोगों को बहुत राहत मिली। हिरासत में बैठाए गए सभी लोगों से आपस में परिचय हुआ। कोई बजरंग दल से तो कोई आरएसएस से। इन सभी के बीच मैं, राहुल और संजीव सबसे कम उम्र के थे।
रात के नौ बजे थे। थाने में बैठे हम लोग ऊंघने लगे थे। तभी पुलिसकर्मियों की आवाजें आने लगीं…उठो…चलो सभी बस में बैठो..जल्दी करो। हमें एक बस में बैठाया गया। मैने अपने साथियों से कहा कि लगता है कि जेल ले जाया जा रहा है। बस जेल जाने के रास्ते के बजाय जीटी रोड पर आ गई तो कुछ लोगों ने पुलिसकर्मियों से पूछा कि कहां ले जा रहे हैं…बताओ तो? जवाब मिला सेंट्रल जेल फतेहगढ़। सेंट्रल जेल का नाम सुनकर मेरा मन घबराने लगा। घर याद आने लगा। मेरा पापा की पोस्टिंग मथुरा जिले के मांगरू गांव में उप प्रधानाचार्य के रूप में थी। पापा मूल रूप से कानपुर देहात के निवासी थे। इसलिए मुझे कानपुर में सेट करने के लिए इंटर के बाद पढ़ाई के लिए यहां भेजा था। तब घर में फोन भी नहीं था। लगा कि अब कोई चिट्ठी भेजेगा तो पापा को पता चलेगा कि पढ़ने के लिए भेजा बेटा तो जेल चला गया। मन में द्वंद चल रहा था। खयाल आया कि सात साल की उम्र में पापा के साथ आरएसएस के शिविर में तीन दिन आगरा में बिताए थे। तब शिविर में सबसे छोटा स्वयं सेवक था। रामकाज के लिए जेल जा रहा हूं….शायद पापा व मम्मी को दुख न हो। इसी मानसिक द्वंद में समय का पता नहीं चला और हमारी बस फतेहगढ़ सेंट्रल जेल के गेट पर पहुंच गई। सवेरा होने वाला था।। एक-एक कर हमें कारागार में दाखिल कर दिया गया। सभी का मुलाहिजा (कपड़े उतारकर शरीर के चिह्न देखना) हुआ और बैरिक में पहुंचा दिया गया। यहां कानपुर के काफी लोग पहले से ही जेल में थे। घर से गिरफ्तार किए गए मेरे मामा राजनारायण तिवारी भी इसी बैरक में थे। मुझे साथियों समेत आइआइटी के प्रोफेसर अठावले जी के बगल में जगह मिली। इस बैरक में जगार (सभी लोग जग गए) हो गई थी। अठावले जी हम तीनों को समझाने लगे..परेशान मत हो। बोले, सोना है तो एक-दो घंटे सो लो। ठीक सात बजे हम बैरक के आगे लान में शाखा लगाएंगे। इधर-उधर करवट बदली, नींद नहीं आ रही थी। दैनिक क्रिया से निवृत्त हुए और सभी के साथ शाखा लगाने पहुंच गए। अठावले जी ने ध्वज फहराया और नमस्ते सदा वत्सले…। जय श्री राम, राम लला हम आएंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे जैसे नारों की गूंज जेल की दीवारों के पार पहुंचती थी। पक्के बंदी सेवाभाव से लगे थे, कहते थे कि आप लोग रामभक्त है। सेवा करने का अवसर मिला है। शासन की कड़ाई के बावजूद कुछ जेल अफसर भी नरम दिल से पेश आते थे। तीसरे दिन राहुल व संजीव के पिता जी जेल में मिलने पहुंचे। मुझे भी मिलने के लिए बुलाया। डर लग रहा था कि डांटेंगे..खुद तो जेल आए ही हमारे बच्चों को भी ले आए..लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। हम लोगों के हाथों में खाने के सामान के थैले थमा दिए। हालांकि जेल में हम लोग कभी-कभी खुद ही बैरिक के लान में घड़ों में तहेरी बनाते थे। सामान जेल प्रशासन देता था। एक-एक कर दिन कट रहे थे। दो नंवबर को एक पक्के (सजायाफ्ता) ने आकर बताया कि आज तुम लोग रिहा हो जाओगे। शाम को हमारी

रिहाई हुई। जेल अधीक्षक ने नौ दिन कारावास में रहने का प्रमाणपत्र थमाते हुए हमें बाहर निकलवाया। सेंट्रल जेल फतेहगढ़ में नौ दिन के कारावास के बाद हम आजाद थे। छूटते ही गेट पर जय श्री राम का उद्घोष किया और कानपुर के लिए निकल पड़े। अब सुकून है कि 22 जनवरी को मेरे राम की अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा हो रही है। हमारी पीढ़ी इस ऐतिहासिक पल की साक्षी बन रही है।


Information is Life