Kanpur : MLA अमिताभ बाजपेयी Satarday को देंगे गिरफ्तारी, Police Commissioner को पत्र भेजकर दी सूचना।

कानपुर : पुलिस से झड़प में सपा विधायक व कांग्रेस प्रत्याशी समेत 200 लोगों पर दर्ज मुकदमें में सपा...

कानपुर के “हर्षद मेहता” शेयर ब्रोकर संजय सोमानी को 22 करोड़ के घोटाले में 3 और सीए को 5 साल की सजा।

वर्ष 1994 में इलाहाबाद बैंक कानपुर में हुआ था घोटाला, 30 साल बाद आया फैसला लखनऊ। बहुचर्चित संजय...

IAS-IPS अफसरों की सियासत में एंट्री : आज इस्तीफा कल चुनाव।

IAS-IPS In Politics : 1993 में केंद्रीय गृह सचिव नरिंदर नाथ वोहरा की अगुआई में एक कमेटी बनी। इसे...

IIT से बीटेक, फिर IPS और अब IAS टॉपर काफी रोचक है आदित्य श्रीवास्तव की कहानी

आदित्य के पिता अजय श्रीवास्तव सेंट्रल ऑडिट डिपार्टमेंट में AAO के पद पर कार्यरत हैं। छोटी बहन...

कानपुर लोकसभा चुनाव 2024 : विकास के लिए समर्पित सांसद को चुनेंगे मतदाता।

(अभय त्रिपाठी) कानपुरः यूपी की कानपुर लोकसभा सीट को मैनचेस्टर ऑफ यूपी के नाम से जानी जाती है।...

Kanpur : भाजपा प्रत्याशी रमेश अवस्थी ने इंडी गठबंधन के प्रभाव वाले कैन्ट, आर्यनगर और सीसामऊ में तेज की कदमताल..

आर्यनगर की गलियों में जाकर जनता से मिले, मिला जनसमर्थन कानपुर। जैसे-जैसे मतदान की तारीख नजदीक आ...

Kanpur : भाजपा प्रत्याशी रमेश अवस्थी ने इंडी गठबंधन के प्रभाव वाले कैन्ट, आर्यनगर और सीसामऊ में तेज की कदमताल..

-आर्यनगर की गलियों में जाकर जनता से मिले, मिला जनसमर्थन कानपुर। जैसे-जैसे मतदान की तारीख नजदीक आ...

इतिहास के पन्नों में : कानपुर के इस इलाके को आखिर कैसे मिला तिलक नगर नाम??

(अभय त्रिपाठी) कानपुर : उत्तर प्रदेश की राजधानी तो नहीं है, पर इस सूबे का सबसे खास शहर तो है। एक...

#Kanpur : लोकसभा प्रत्याशी आलोक मिश्र और विधायक समेत 200 लोगों पर केस दर्ज, अमिताभ बोले लोकतंत्र नहीं लाठीतंत्र।

यूपी के कानपुर (Kanpur) में इंडिया गठबंधन (India Alliance) के लोकसभा प्रत्याशी और समाजवादी पार्टी...

Kanpur : चोरों के हौसले बुलंद,स्वरूप नगर में दिनदहाड़े चोर स्कूटी लेकर रफूचक्कर।

कानपुर : बेखौफ अपराधी पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था को धता बताते हुए शहर में ताबड़तोड़ चोरी की वारदातों...
Information is Life

UP Election 2022: पिछले चुनाव में यहां की दस विधानसभा सीटों में भाजपा ने सात सीटों पर अपना परचम लहराया था।

UP Election 2022: यूपी में राजनीति के गढ कहे जाने वाले कानपुर (Kanpur) में रविवार को होने वाले मतदान (Voting) को लेकर नगर का चुनावी माहौल बेहद गरम दिख रहा है। जनसंघ के जमाने से अपने राजनीतिक इतिहास (political history) को समेटे हुए कानपुर प्रदेश के राजनीतिक माहौल का थर्मामीटर भी कहा जाता है। पिछले चुनाव में यहां की दस विधानसभा सीटों में भाजपा ने सात सीटों पर अपना परचम लहराया था। पर इस चुनाव में भाजपा (BJP) के हाथ से आर्यनगर (Aryanagar seat) और छावनी (chavani seat) की सीट निकल गयी थी जबकि बिल्हौर (Bilhaur Seat) और बिठूर सीट (Bithoor seat) उसे सपा (SP) से जीतने का लाभ मिला था। एक सीट का लाभ कांग्रेस (congress) को भी मिला था।

इस बार के चुनाव में भाजपा ने अपने उम्मीदवारों में कोई विशेष परिवर्तन नहीं किया है। केवल आर्यनगर (Aryanagar seat) से पिछला चुनाव हार चुके सलिल विश्नोई को इस बार सीसामऊ से उतारा गया है जबकि सीसामऊ से चुनाव हार चुके सुरेश अवस्थी को आर्यनगर सीट से उतारा गया है।

1 – बिल्हौर विधानसभा (Bilhaur Assembly)
इस सीट को पहले लोकसभा के नाम से जाना जाता था लेकिन परिसीमन के बाद यह नई सीट बन गयी। इसमें अधिकतर हिस्सा अकबरपुर विधानसभा का आता है। जबकि पुरानी सीट अकबरपुर में रनिया क्षेत्र जोड दिया गया। बिल्हौर सीट पर अधिकतर पिछडी जाति का वोट बैंक है। 2017 के पहले जब प्रदेश में सपा की सरकार बनी थी तब सपा की अरूणा कोरी ने यहां से विजय हासिल की थी। पर 2017 में बसपा से भाजपा में आए भगवती सागर ने बहुजन समाज पार्टी के कमलेश चंद्र दिवाकर को 31166 वोटों के बड़े अंतर से हराया था। भाजपा ने यहां से राहुल बच्चा को प्रत्याशी बनाया है जबकि एसपी के रचना सिंह गौतम और बीएसपी ने मधु गौतम को टिकट दिया है।

2-बिठूर विधानसभा (Bithoor Assembly)
धार्मिक क्षेत्र बिठूर कानपुर की नई विधानसभा सीट है। यह 2012 में परिसीमन के बाद बनी है। इसका अधिकतर हिस्सा देहात क्षेत्र में जबकि कुछ हिस्सा शहर में भी आता है। 2012 के चुनाव में मुनीन्द्र शुक्ल ने यहां पर जीत दर्ज की थी लेकिन 2017 में कांग्रेस से आए अभिजीत सागा ने उनको पराजित कर यह सीट भाजपा की झोली में डालने का काम किया। इस बार भी अभिजीत सांगा मैदान में है। विधानसभा चुनाव 2012 में समाजवादी पार्टी के मुनींद्र शुक्ला ने जीत दर्ज की थी। वहीं 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के अभिजीत सिंह सांगा एसपी के मुनींद्र शुक्ला को हरा कर शानदार जीत दर्ज की थी।

3 -कल्याणपुर विधानसभा (Kalyanpur Assembly)
कानपुर की इस सीट पर हमेश से कब्जा रहा है। पर 2012 में इस सीट से पूर्व केबिनेट मंत्री प्रेमलता कटियार को हार का सामना करना पड़ा। वह लगातार चार बार यहां से विधायक रहीं पर सपा के सतीश निगम ने उनको हराकर पहली बार सपा का खाता खोला लेकिन 2017 के चुनाव में प्रेमलता कटियार की बेटी नीलिमा कटियार ने इस सीट को एक बार फिर जीतकर भाजपा को बडा तोहफा दिया। इस बार फिर मुख्य मुकाबला नीलिमा कटियार और सतीश निगम के बीच है।

4 – गोविंद नगर विधानसभा (Govind Nagar Assembly)
एक समय एशिया की सबसे बडी सीट कही जाने वाली गोबिन्द नगर विधानसभ ी जनसंघ काल से भाजपा के खाते मे आती रही है। लेकिन 2012 में इस सीट को काटकर एक नई सीट किदवई नगर का निर्माण किया गया। यह ब्राम्हण और पंजाबी बाहुल्य सीट रही है। यहां से कल्याण् सिंह सरकार में श्रममंत्री रहे बालचन्द्र मिश्र चार बार विधायक बने। जनसंघ काल में देवीदास आर्य भी विधायक बनते रहे। बाद में कांग्रेस के अजय कपूर यह सीट जीतते रहे। पर पिछले दो चुनावों से भाजपा के पास यह सीट है। सत्यदेव पचोरी के सांसद बनने के बाद हुए उपचुनाव में भाजपा के जिलाध्यक्ष सुरेेंद्र मैथानी ने यह सीट जीती। सुरेंद्र मैथानी का सपा के सम्राट विकास और कांग्रेस के करिश्मा ठाकुर के बीच यहां त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिल रहा है।

5 -महाराजपुर विधानसभा (Maharajpur Assembly)
कभी समाजवादी तो कभी बसपा के हांथों में आती रही सरसौल और छावनी सीट का अधिकतर हिस्सा नई विधानसभा महराजपुर में आ गया तो बार पांच बार के छावनी विधायक सतीश महाना ने यह सीट जीतकर भाजपा को पहली बार सौंपने का काम किया। इसके बाद यह सीट फिर से 2017 में उन्होंने जीतने का काम किया। इस बार फिर वह चुनावी मैदान में हैं और उनकी जीत को तय माना जा रहा है। फलस्वरूप उन्हें प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया। समाजवादी पार्टी की ओर से फतेह बहादुर गिल उम्मीदवार हैं। वहीं कांग्रेस ने कनिष्ठ पांडेय और बसपा ने सुरेंद्रपाल सिंह चौहान की अपनी पार्टी की ओर से प्रत्याशी बनाया है।

6 -सीसामऊ विधानसभा (Sisamau Assembly)
अयोध्या आंदोलन के दौरान यह सीट भाजपा के खाते में आ गयी और यहां से राकेश सोनकर तीन बार विधायक बने। लेकिन बाद में इस सीट को सपा के हाजी मुश्ताक सोलंकी ने हथिया लिया। उनके निधन के बाद उनके बेटे इरफान सोलंकी यह सीट लगातार जीतकर सपा की झोली में डाल रहे हैं। परिसीमन के बाद पुरानी विधानसभा आर्यनगर का अधिकतर हिस्सा इसी क्षेत्र में आ गया। इस सीट पर अधिकतर मुस्लिम मतदाता आते हैं। यहाँ सीधा मुकाबला भाजपा के सलिल विश्नोई और सपा के इरफ़ान सोलंकी के बीच देखने को मिल रहा है।

7 -आर्यनगर विधानसभा (Aryanagar Assembly)
आर्यनगर सीट पुरानी सीट है पर परिसीमन के बाद इसका स्वरूप् दो चुनावों से बदल चुका है। पूर्व में इस जनरलगंज सीट कहा जाता था। पर इसमें बाद में छावनी का बडा हिस्सा जोड दिया गया। आर्यनगर में जनरल वोटरों की संख्या सबसे अधिक है। इसके साथ ही यहां पर मुस्लिम आबादी भी रहती है। आर्यनगर विधानसभा सीट से 2012 में बीजेपी के सलिल विश्नोई विधायक थे। लेकिन 2017 के विधानसभा चुनाव में सपा के अमिताभ वाजपेई ने शानदार जीत दर्ज की थी। अमिताभ वाजपेयी पूरे 5 साल जनता के बीच रहे और अपनी विधानसभा की समस्याओं को जोर शोर से उठाते रहे और लोकप्रिय विधायक बनकर निखरे है सीट उनके सामने भाजपा के सुरेश अवस्थी मुकाबले में हैं। जबकि कांग्रेस से प्रमोद जायसवाल चुनाव मैदान में हैं।

8 -किदवई नगर विधानसभा (Kidwai Nagar Assembly)
नवगठित विधानसभा सीट पर अधिकतर ब्राम्हण मतदाता है। इसका अधिकतर हिस्सा पुरानी विधानसभा गोबिन्दनगर का ही है। 2012 में यहां से कांग्रेस के अजय कपूर जीते जो पहले भी गोबिन्द नगर से विधायक बनते आ रहे थें। लेकिन 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा के महेश त्रिवेदी ने कांग्रेस के अजय कपूर को हरा कर कमल खिलाने का काम किया। इस बार फिर इन दोनो प्रत्याशियों का सीधा मुकाबला होने जा रहा है।

9 -छावनी विधानसभा (chavani Assembly)
छावनी विधानसभा कभी कांग्रेस का गढ हुआ करती थी लेकिन भाजपा के सतीश महाना ने लगातार पांच बार चुनाव जीतकर यह सीट पार्टी को सौंपने का काम किया। इस बीच जब सीटों का परिसीमन हुआ तो वह महराजपुर विधानसभा से चुनाव मैदान में उतरे और इस सीट से रघुनन्दन भदौरिया चुनाव में उतरे। 2012 में यह सीट भाजपा के हाथ में आ गयी पर 2017 में यह सीट भाजपा के हाथ से निकल गयी और कांग्रेस के सोहेल अंसारी ने यह सीट जीती। मुस्लिम बाहुल्य इस सीट पर एक बार फिर रघुनन्दन भदौरिया फिर से मैदान में हैं। सपा, बसपा, एआईएमआईएम और आम आदमी पार्टी ने भी मुस्लिम प्रत्याशियों को टिकट दिया है। ऐसा पहली बार है कि किसी विधानसभा सीट पर मुस्लिम वर्ग से ताल्लुक रखने वाले इतनी अधिक संख्या में प्रत्याशी मैदान में हैं। मुस्लिम प्रत्याशियों की संख्या अधिक होने से भाजपा को इसका लाभ मिल सकता है।

10 -घाटमपुर- रनिया विधानसभा (Rania Assembly)
कानपुर के देहात हिस्से में आने वाली घाटमपुर सीट सुरक्षित सीट है जहां पर पिछली बार पूर्व सांसद कमलरानी वरूण को टिकट दिया गया और उन्होंने यह सीट जीतकर प्रदेष में मंत्री बनने का गौरव हासिल किया। पर उनके निधन के बाद जब उपचुनाव हुआ तो यह सीट भाजपा के उपेन्द्र पासवान ने जीती । पूर्व में यानी 2012 में यह सीट सपा के इंद्रजीत कोरी के पास थी। भाजपा ने यहाँ पर एक बार फिर प्रतिभा शुक्ला को टिकट दिया है जबकि बसपा से आए आरपी कुशवाहा को सपा ने टिकट दिया है। कांग्रेस ने अंबरीष सिंह गौर को मैदान में उतारा है। बसपा से विनोद पाल प्रत्याशी हैं। यहां ओबीसी वोटों के बंटवारे के बीच अगड़े मतदाता चुनाव में निर्णायक हो सकते हैं।


Information is Life