IIT से बीटेक, फिर IPS और अब IAS टॉपर काफी रोचक है आदित्य श्रीवास्तव की कहानी

आदित्य के पिता अजय श्रीवास्तव सेंट्रल ऑडिट डिपार्टमेंट में AAO के पद पर कार्यरत हैं। छोटी बहन...

कानपुर लोकसभा चुनाव 2024 : विकास के लिए समर्पित सांसद को चुनेंगे मतदाता।

(अभय त्रिपाठी) कानपुरः यूपी की कानपुर लोकसभा सीट को मैनचेस्टर ऑफ यूपी के नाम से जानी जाती है।...

Kanpur : भाजपा प्रत्याशी रमेश अवस्थी ने इंडी गठबंधन के प्रभाव वाले कैन्ट, आर्यनगर और सीसामऊ में तेज की कदमताल..

आर्यनगर की गलियों में जाकर जनता से मिले, मिला जनसमर्थन कानपुर। जैसे-जैसे मतदान की तारीख नजदीक आ...

Kanpur : भाजपा प्रत्याशी रमेश अवस्थी ने इंडी गठबंधन के प्रभाव वाले कैन्ट, आर्यनगर और सीसामऊ में तेज की कदमताल..

-आर्यनगर की गलियों में जाकर जनता से मिले, मिला जनसमर्थन कानपुर। जैसे-जैसे मतदान की तारीख नजदीक आ...

इतिहास के पन्नों में : कानपुर के इस इलाके को आखिर कैसे मिला तिलक नगर नाम??

(अभय त्रिपाठी) कानपुर : उत्तर प्रदेश की राजधानी तो नहीं है, पर इस सूबे का सबसे खास शहर तो है। एक...

#Kanpur : लोकसभा प्रत्याशी आलोक मिश्र और विधायक समेत 200 लोगों पर केस दर्ज, अमिताभ बोले लोकतंत्र नहीं लाठीतंत्र।

यूपी के कानपुर (Kanpur) में इंडिया गठबंधन (India Alliance) के लोकसभा प्रत्याशी और समाजवादी पार्टी...

Kanpur : चोरों के हौसले बुलंद,स्वरूप नगर में दिनदहाड़े चोर स्कूटी लेकर रफूचक्कर।

कानपुर : बेखौफ अपराधी पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था को धता बताते हुए शहर में ताबड़तोड़ चोरी की वारदातों...

Kanpur News : मरीजों की सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं हैः मुख्य सचिव

कानपुर। प्रदेश के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने कहा कि मरीजों की सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं है।...

#Kanpur : बुजुर्ग पिता की सेवा करना बैंक कर्मी के लिए बना काल, कलयुगी संतानें और पत्नी ने गला दबाकर हत्या का किया प्रयास।

कानपुर। बैंककर्मी ने अपनी पत्नी व बच्चों समेत उनके साथियों पर डंडे व रॉड से पीटने व गला दबाकर...

“बुजुर्ग लड़े गोरों से हम लडेंगे चोरो से” कानपुर में ऐसा क्या हुआ की थाने के बाहर ये लगने लगे नारे?

कानपुर : शहर में चारों ओर ईद मुबारकबाद के शोर के बीच अचानक पनकी थाने के बाहर हंगामा होने लगा,...
Information is Life

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय शतरंज महासंघ (फिडे) ने शुक्रवार को 44वें शतरंज ओलंपियाड की मेजबानी आधिकारिक रूप से भारत को सौंप दी। शतरंज ओलंपियाड 28 जुलाई से 10 अगस्त तक तमिलनाडु के चेन्नई में होगा, जिसमें लगभग 180 देशों के दो हजार से अधिक प्रतियोगी शीर्ष पुरस्कार के लिए जूझेंगे। फिडे के अध्यक्ष अर्काडी वोर्कोविच और अखिल भारतीय शतरंज महासंघ के अध्यक्ष डॉ. संजय कपूर ने शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन में इस संदर्भ में एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए। इस मौके पर पांच बार के विश्व चैंपियन रह चुके विश्वनाथन आनंद भी मौजूद रहे। आनंद ने भरोसा जताया कि यह टूर्नामेंट काफी सफल साबित होगा। भारत 1927 में पहली बार शतरंज ओलंपियाड होने के बाद से पहली बार इस टूर्नामेंट की मेजबानी कर रहा है।

भारत बनेगा शतरंज महाशक्ति: संजय कपूर

अखिल भारतीय शतरंज महासंघ (एआईसीएफ) के नव-निर्वाचित अध्यक्ष डॉ. संजय कपूर भारत को इस खेल की महाशक्ति बनाने का इरादे रखते है। इस दिशा की तरफ बढ़ने के लिए उन्होंने एक ब्लू-प्रिंट पेश किया, जिसमें इंडियन चेस लीग, शतरंज ओलम्पियाड के लिए बोली लगाने, महिला ग्रैंड प्री और स्कूलों में शतरंज को बतौर विषय शामिल करने को लेकर ताबड़तोड़ घोषणाएं कर डाली हैं।

लेकिन देखना यह है कि चेस फेडरेशन को इन योजना को जमीन में उतारने में कितनी सफलता मिलती है यह आने वाला समय बताएगा।

चेस ओलम्पियाड के लिए बोली लगाने फूल-प्रूफ योजना
एक पावर-पैक एजीएम में एआईसीएफ का अध्यक्ष बनने के बाद डॉ. कपूर ने एक संवाददाता सम्मेलन में अपनी योजनाओं के तुरंत बाद बताया, “हम चाहते हैं कि भारत दुनिया के लिए शतरंज की मंजिल बने।

हमने इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए एक विस्तृत योजना तैयार की है। प्रतिष्ठित शतरंज ओलम्पियाड के आयोजन के लिए जब भी प्रक्रिया को शुरू होगी, तो हम एक फूल-प्रूफ योजना के साथ बोली लगाएंगे और इसकी मेजबानी हासिल करने की कोशिश करेंगे।

आईपीएल की तर्ज पर होगी इंडियन चेस लीग
कानपुर क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. कपूर चेस में फ्रेंचाइजी आधारित शतरंज लीग भी लाना चाहते हैं, जो कि आईपीएल की तर्ज पर होगी।

इस बारे में वह कहते हैं, “लंबे समय से, हम इस खेल को और अधिक लोकप्रिय बनाने के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय स्वाद के साथ इंडियन चेस लीग शुरू करने के लिए उत्सुक हैं। फ्रैंचाइज़-मॉडल के बाद पहला संस्करण इस वर्ष के दौरान आयोजित किया जाएगा।”

महिला ग्रां.प्री. के आयोजन का फैसला
एआईसीएफ के अध्यक्ष ने बताया कि एजीएम ने एक महिला ग्रां प्री टूर्नामेंट की मेजबानी करने का भी फैसला किया है, जो कि विश्व महिला चैम्पियनशिप कैलेंडर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होगा। इस आयोजन से देश की महिला खिलाड़ियों को भारी बढ़ावा मिलेगा।

शतरंज को स्कूली छात्रों के बीच ले जाने का इरादा
डॉ. कपूर की योजना में स्कूली स्तर पर शतरंज को शामिल करना भी है। वह कहते हैं, “सिर्फ इतना ही नहीं, हम स्कूली स्तर पर शतरंज को लोकप्रिय बनाने के लिए स्कूलों के कार्यक्रम में एआईसीएफ- शतरंज की शुरुआत करने जा रहे हैं।

हमारे सभी 33 राज्य सहयोगी इसे एक साथ लागू करेंगे। हम चाहते हैं कि भारत में हर स्कूल जाने वाला बच्चा शतरंज खेले। यह भविष्य की पीढ़ियों को विकसित करने में मदद करेगा।”

खिलाड़ियों के लिए एकल खिड़की पंजीकरण
एजीएम में लिए गए अन्य प्रमुख निर्णयों में शामिल हैं: सभी खिलाड़ियों के लिए एकल खिड़की पंजीकरण, सेंटर ऑफ एक्सीलेंस और ऑर्गेनाइजेशन ऑफ ए सुपर चैंपियन की स्थापना। उन्होंने कहा, “सुपर टूर्नामेंट कई शीर्ष-स्तरीय खिलाड़ियों को एक्शन में देखेगा। डॉ।

कपूर ने बताया कि यह हमारे उच्च श्रेणी के जीएम को घर पर व्यापार में सर्वश्रेष्ठ प्रतिस्पर्धा करने का मौका देगा, साथ ही आगामी यंगस्टर्स को बेहतर बनाने में मदद करेगा।”

इस मौके पर मौजूद एआईसीएफ के सचिव भरत सिंह चौहान ने एकल खिड़की पंजीकरण प्रक्रिया के महत्व को भी रेखांकित करते हुए कहा कि अब से हर खिलाड़ी अपने जिले, राज्य और साथ ही एआईसीएफ के लिए पंजीकृत होगा।

चौहान ने कहा, “सेंटर ऑफ एक्सीलेंस जमीनी स्तर पर प्रतिभाओं को पहचानने में मदद करेगा और दुनिया की शीर्ष 50 रैंकिंग में भारत के कम से कम 10 खिलाड़ियों को प्रभावित करेगा।”


Information is Life