Jyoti Murder Case Kanpur: हत्यारें पीयूष को न्यायालय से राहत नहीं…

अपर जिला जज कोर्ट ने 2022 में सुनाई थी छह को उम्र कैद की सजा.. उच्च न्यायालय से नहीं मिली राहत तो...

Kanpur लायर्स चुनाव का परिणाम घोषित,अध्यक्ष श्याम नारायण सिंह और अभिषेक तिवारी बने महामंत्री।

कानपुर : लायर्स एसोसिएशन के नये अध्यक्ष और महामंत्री चुन लिये गये हैं। .बुधवार देर शाम अध्यक्ष पद...

कानपुर के पोस्टर पर मचा बवाल राहुल गांधी ‘कृष्ण’ और अजय राय बने अर्जुन….

राहुल गांधी की भारत जोड़ा न्याय यात्रा कानपुर पहुंची है. कानपुर के एक कांग्रेस नेता द्वारा लगवाया...

पश्चिम बंगाल में रिपब्लिक बांग्ला के रिपोर्टर को किया गिरफ्तार,जर्नलिस्ट क्लब ने की कड़ी निन्दा।

पश्चिम बंगाल में ‘रिपब्लिक बांग्ला’ टीवी न्यूज़ चैनल के पत्रकार सन्तु पान को गिरफ्तार कर लिया गया...

रेड टेप कल्चर’ को ‘रेड कार्पेट कल्चर’ में बदला, UP ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में बोले PM मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं जब भी विकसित भारत की बात करता हूं तो इसके लिए नई सोच की बात करता...

IPS Amitabh Yash: एनकाउंटर स्पेशलिस्ट अमिताभ यश बने यूपी के नए ADG ला एंड ऑर्डर, जाने इनके बारे में।

IPS Amitabh Yash: यूपी पुलिस के सबसे चर्चित अधिकारियों में शामिल आईपीएस अमिताभ यश एडीजी ला एंड...

Kanpur News : पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक का निधन

पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक (71) का निधन हो गया है। बताया जा रहा है कि ठंड लगने से...

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी।

यूपी में पांच आईपीएस अफसरों का तबादला। विपिन मिश्रा कानपुर में एडिशनल सीपी। कमलेश दीक्षित डीसीपी...

#Kanpur News : जेके कैंसर बने रीजनल सेंटर, बढ़ेंगी सुविधाएं…

➡️चौथी बार उठी मांग, विधानसभा की याचिका कमेटी को दिया गया पत्र। कानपुर। जेके कैंसर को रीजनल सेंटर...

राज्यसभा चुनाव: सुधांशु त्रिवेदी, अमरपाल मौर्या और आरपीएन सिंह बीजेपी से प्रत्याशी, बीजेपी ने जारी की सूची

Rajya Sabha elections: राज्यसभा की दस सीटों के लिए होने वाले चुनाव में बीजेपी की तरफ से सुंधाशु...
Information is Life

कानपुर- किसान आंदोलन में भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत का बयान का वायरल वीडियो एक बार फिर चर्चा में है। ब्राह्मण समाज में भारी आक्रोश देखा जा रहा है। मंगलवार को अखिल भारतीय सर्व ब्राम्हण महासभा के पदाधिकारियों ने कानपुर जर्नलिस्ट क्लब में प्रेसवार्ता कर राकेश टिकैत का ब्राम्हणों के लिए दिए गए तथाकथित बयान की निंदा की महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीरेंद्र दुबे बोले कि यूपी में आसन्न विधानसभा चुनावों को दृष्टिगत रखते हुए जहाँ विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा अव्यवहारिक तरीके से प्रत्यक्ष व परोक्ष रूप से ब्राम्हणों को लुभाने का प्रयास किया जा रहा है। वही समाज में सक्रिय राकेश टिकैत जैसे किसान नेता आंदोलन का सहारा ब्राम्हण समाज के खिलाफ जहर उगल रहा है। जिससे ब्राम्हण समाज अपमानित अनुभव कर रहा है। उन्होंने टिकैत पर राजनीतिक स्वार्थ से प्रेरित होकर कुछ राजनीतिक दलों के हाथों की कठपुतली बनकर जाने अनजाने समाज का अहित कर रहे है।अखिल भारतीय सर्व ब्राम्हण महासभा ऐसे नेताओं के कृत्य की घोर निंदा करती है और महासभा ऐसे तत्वों के विरुद्ध जन जागरण अभियान चलाकर समाज मे बेनकाब करेंगी। महासभा ने योगी सरकार से मांग की है राकेश टिकैत के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की माँग की है।

क्या है वायरल वीडियो में।

दिल्ली में किसान आंदोलन के बीच पलवल में आयोजित किसानों की सभा का ये वायरल वीडियो दिसंबर 2020 का बताया जा रहा है वीडियो में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि “मंदिर वालों को रोज पूजा जा रहा है, लेकिन वो लोग एक भी दिन भंडारा लगाते नहीं नजर आए। ये लोग कहाँ हैं? इनसे भी हिसाब-किताब ले लो। इनका अता-पता ले लो। हमारी माँ-बहनें इन्हें जा-जा कर दूध दे रही हैं। ये लोग बदले में एक कप चाय भी नहीं पिला रहे हैं। इन सब लोगों को भी पता चलेगा।” टिकैत ने कहा कि “गाय का बच्चा हो या भैंस का, सबसे पहला दूध पंडित के यहाँ जाता है। लेकिन इनमें से एक भी (प्रदर्शन स्थल) पर कुछ नहीं भिजवा रहे। इनसे बढ़िया तो गुरुद्वारा ही है।”

अंत में पंडितों पर भड़कीले स्वर में कहा कि “देखो सुधर जाओ। पंडित भी सुधर जाओ, जो मंदिर में बैठे हैं। इन पर बहुत चढ़ावा है, इनसे हिसाब-किताब तो ले लो भाई। यहाँ एकाध भंडारा लगवा दो। हम कोई कृष्ण जी के ख़िलाफ़ थोड़ी हैं, लेकिन तुम भंडारा तो लगवाओ। सब हरिद्वार जा रहे हैं, मथुरा जा रहे हैं, एक भी पंडित यहाँ नहीं आ रहा। इलाज इनका सबका होगा। इनकी सबकी लिस्ट बनेगी।

टिकैत के इस बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद उन्होंने सफाई भी पेश की थी कि मेरे बयान का आशय मंदिर में पुजारी व ट्रस्ट से ,गुरुद्वारा ‘लंगर’ की भाति मंदिर के पुजारी व ‘ट्रस्ट’ भी आंदोलन मे अपने बैनर के साथ लंगर की सेवा प्रदान करने का आशय था, मेरे बयान को तोड़ मरोड़ कर अन्यथा न लिया जाए। वीडियो को एडिट कर गलत तरीके से पेश ना करें। आंदोलन सभी का है। यह आंदोलन आप सभी के द्वारा ही चलाया जा रहा है।


Information is Life